Vitiligo in hindi

Vitiligo in hindi- symptoms, causes, and cures:सफेद दाग कारण,लक्षण,इलाज

सफेद दाग(Vitiligo in hindi) एक त्‍वचा रोग है। इस रोग से पीड़ित लोगों के बदन पर अलग-अलग स्‍थानों पर अलग-अलग आकार के सफेद दाग आ जाते हैं।आइये जानते है सफेद दाग होने के क्या कारण एवं लक्षण है, और इसका इलाज क्या है।

सफेद दाग के कारण(causes of Vitiligo in hindi)

सफेद दाग(Vitiligo in hindi) का इलाज जानने से पहले आइये जानते है सफेद दाग के कारण  के बारे में की आखिर सफ़ेद दाग क्यों होते है सफ़ेद दाग रोग तब होता है जब हमारी मेलानोसाइट्स मर जाती हैं या फिर हमारी कोशिका मेलेनिन का उत्पादन बंद कर देती हैं।ये सफ़ेद दाग होने के कारण में से सबसे मुख्य कारण है।हमारी कोशिका जिस वर्णक का निर्माण करती है वो हमारे बाल और आँख को रंग देता है।इस कारण जब वर्णक का उत्पादन नहीं होता तो सफ़ेद दाग हो जाते है।

इसके अलावा सफ़ेद दाग(Vitiligo in hindi) की समस्या हमारे इम्यून सिस्टम से भी जुडी होती है।हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम में जब कोई भी बैक्टीरिया, वाइरस और कीटाणु हमारे अंदर प्रवेश करता है तो हमारे शरीर के एंटी बॉडी उन कीटाणु को मार देते है। लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता है कभी कभी बाहर की बैक्टीरिया अंदर प्रेवश कर ही जाते है और वो हमारे मेलेनिन बनाने वाली मेलैनोसाइट्स कोशिका को भी नष्ट कर देते है। जिससे मेलेनिन बनना बंद हो जाता है और सफ़ेद दाग हो जाते है।

योनि में यीस्ट संक्रमण,प्रकार,लक्षण,कारण और इलाज

सफेद दाग के लक्षण(Symptoms of Vitiligo in hindi)

अगर हम सफ़ेद दाग(Vitiligo in hindi) के लक्षण के बारे में बात करे तो सफ़ेद दाग शरीर में कहीं भी हो सकते है।सफ़ेद दाग के मुख्य लक्षण के रूप में हमारी त्वचा पर सफ़ेद धब्बे हो जाते है। ये उन क्षेत्रों में अधिक होते है जो सूर्य की रोशनी से सीधा सम्पर्क में होते है। इसके अलावा सफ़ेद दाग के प्रमुख लक्षण में बगल और कमर पर सफेद दाग, मुंह के आसपास,आँखों के पास में, हमारे नाख़ून के पास, हमारे गुप्तांग के उपर, हमारे होठों के उपर, चेहरे पर, यह सफ़ेद दाग हो जाते है।

वी वाश क्या होता है ?उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी

सफेद दाग का इलाज (Cure of Vitiligo)

आप जब सफ़ेद दाग के बारे में इतने कुछ जान चुके है तो अब हम आपको सफ़ेद दाग(Vitiligo in hindi) के इलाज के बारे बता रहे है सबसे पहले तो हम यह बात साफ कर दे की सफ़ेद दाग की बीमारी को कुछ दिन या हफ्तों या महीनों में ठीक नहीं किया जा सकता है। इसके लिए आपको धैर्य रखना होगा और साल या 2 साल में यह रोग पूरी तरह ठीक हो पाता है।इस बीमारी को अंदरूनी रूप से ही ठीक किया जा सकता है। तो आइये जानते है की सफेद दाग(Vitiligo in hindi) को कैसे ठीक कर सकते है 

अनार के पत्ते:

सफ़ेद दाग के घरेलू उपचार में अनार खाने के बहुत  फायदे होते है। आपको कुछ अनार के पत्ते लेने है और उन्हें छाया में सूखा लें। सूखने के बाद उन्हें बारीक़ करके पीसकर उन्हें कपड़े से छान लें। और रोजाना सुबह शाम 8-8 ग्राम खा ले और ऊपर से पानी पी ले।

काले चने और त्रिफला:

सफेद दाग का इलाज के लिए जो दूसरा उपाय हम करने जा रहे है उसके लिए हमें जरुरत होगी हरड़ बहेड़ा और काले चने की। काले चने और त्रिफला को सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज  माना जाता है। इसके लिए एक प्याली काले चने और 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण यानि की हरड़ बहेड़ा और आंवले के चूर्ण को 125 ग्राम पानी में भिगो दे। 12 घंटे बाद इन चनो को मोटे कपडे में बांध दे और बचें हुए पानी को कपडे की पोटली पर दाल दे।और फिर पुरे 24 घंटे बाद पोटली खोलें। ये चने अंकुरित हो गए होंगे।अब इन अंकुरित चनों को चबा चबा कर खाये।अगर आप 6 सप्ताह तक इन्हे खाते है तो आपके सफ़ेद दाग की समस्या में तेजी से फायदा मिलता है।

बिना नमक के चने की रोटी है सफेद दाग का उपचार:

अगर आप सफेद दाग का इलाज करना चाहते है तो नमक और अधिक मीठा खाना कम कर दे। या पूरी तरह से बंद कर दे, तो इस समस्या में तेजी से फायदा होता है। अगर आप चने की रोटी बिना नमक के लम्बे समय तक खाते है, तो भी सफ़ेद दाग की समस्या में तेजी से फायदा मिलता है।आप चने की रोटी को अच्छी तरह से घी से चुपड़ कर खा सकते है। अगर चने की रोटी अच्छी नहीं लगती है, तो गेंहू के आटे के साथ चने को सामान मात्रा में मिलकर और उसमे सैंधा नमक मिलाकर खाते है तो सफेद दाग का इलाज तेजी से होता है। इसके अलावा बिना धूलि मुंग की दाल भी इस प्रॉब्लम में फ़ायदेमंद होती है।

लाल मिट्टी से करें सफेद दाग का सफल इलाज:

गाँवो में सफेद दाग के इलाज के लिए लाल मिट्टी का उपयोग बरसों से किया जाता आ रहा है। लेकिन इस उपाय के बारे में शहर के लोगो को कम ही पता है। लाल मिट्टी में अच्छी मात्रा में कॉपर पाया जाता है जो की त्वचा पर मेलेनिन को बढ़ाता है और सफ़ेद दाग धीरे धीरे ठीक होने लगते है। इसके लिए एक छोटे बर्तन में 2 चम्मच लाल मिट्टी के साथ एक चम्मच अदरक का रस मिला लें।और इसे अपने सफेद दाग की जगह पर लगा लें। लगाने के बाद इससे थोड़ी देर तक सफेद दाग पर मसाज करें। और इसके बाद थोड़ी देर तक इसे सूखने दें और इसके बाद इसे हटा लें।यह सफेद दाग का रामबाण ईलाज है।

सूर्य की किरणें:

जिस जगह आपके सफ़ेद दाग हो रखे है। आप उन जगह पर आप अगर सुबह के समय थोड़ी सी धुप लगाएंगे तो ये सफ़ेद दाग में बहुत अच्छा काम करती है। सुबह के समय थोड़ी थोड़ी धुप खाने से उन जगहों पर वापिस मेलेनिन बनने लगता है इसलिए धुप को भी सफेद दाग का रामबाण इलाज  माना जाता है।

सफेद दाग में परहेज करें खट्टी चीजों का:

ऊपर आज़माए गए सभी नुस्खे तभी सफल होंगे जब आप सभी खट्टी चीजों का परहेज करें।सफ़ेद दाग होने पर खट्टी चीजों का सेवन कम करें। साथ ही मांस, मछली, चावल, नमक, तेल, गुड़, और मिर्च खाने को भी अवॉइड करना चाहिए।

अखरोट:

सफ़ेद दाग में अखरोट खाने के फायदे भी बहुत होते है।अखरोट में टॉक्सिक प्रभाव होता है जिससे की अखरोट के जड़ के पास की मिट्टी काली हो जाती है।ऐसे में यह कई जगह बताया गया है की अगर सफ़ेद दाग होने पर अखरोट खाया जाये तो सफ़ेद दाग ठीक हो जाते है।

सफेद दाग की दवा

सफेद दाग के इलाज के लिए दुनिया भर में कई तरह की दवाइयाँ मौजूद है। लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार अभी तक ऐसी कोई भी ऐसी सफ़ेद दाग की दवा नहीं बनाई गयी है जिसके रिजल्ट बहुत अच्छे हो और जिसका कोई साइड इफेक्ट न हो।लेकिन सफेद दाग की इस बीमारी का हल खोजा है भारत के रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने यह एक आयुर्वेदिक दवाई है और बहुत ही कारगर है। इस दवाई का नाम है ल्यूकोस्किन  सफेद दाग के इलाज में ल्यूकोस्किन बहुत ही लाभकारी है।इस सफेद दाग की दवा में 13 तरह की जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया गया है। इससे 2 तरह की दवाई बनाई गयी है एक खाने वाली और एक लगाने वाली क्रीम। लगाने वाली दवाई में 7 जड़ी बूटियों का और खाने वाली दवाई में 6 जड़ी बूटी का उपयोग किया गया है।इस दवाई से सफेद दाग की समस्या में 90 फीसदी तक फायदा मिलता है। इस दवाई के रिजल्ट देखकर देश विदेश में इस दवाई की मांग तेजी से बढ़ी है।

विटामिन बी 12 से करे सफ़ेद दाग का इलाज:

स्वीडन की यूनिवर्सिटी ने अस्पताल में किए गए दो साल के अध्ययन में पाया गया की जिन लोगो के सफ़ेद दाग है उन्हें जब विटामिन बी 12 अच्छी मात्रा दिया गया तो उनकी सफ़ेद दाग की समस्या में बहुत फायदा मिला। क्योंकी इस परीक्षण में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को सूरज की रोशनी में विटामिन बी12, फोलिक एसिड और सूरज के संपर्क में आने पर प्रजनन में अनुभव किया । शोधकर्ताओं ने कहा की 64 प्रतिशत रोगियों में सफ़ेद दाग का प्रसार रुक गया। शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया कि जिन क्षेत्रों में सीधी धूप मिलती थी, उनमें सबसे अधिक सुधार हुआ

ग्वार पाठा:

इस बात में कोई दोराय नहीं है की ग्वार पाठा का उपयोग त्वचा के स्वास्थ्य के लिए लंबे समय से इस्तेमाल किया जाता है।एलो वीरा हमारी स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया का समर्थन करता है। इस शक्तिशाली पौधे में विटामिन ए, सी, बी 12 और फोलिक एसिड सहित सफ़ेद दाग से लड़ने के लिए आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट विटामिन होते हैं। इसमें आवश्यक खनिज भी शामिल हैं, जिसमें तांबा, कैल्शियम, क्रोमियम, जस्ता और अन्य शामिल हैं जो त्वचा के पुन:स्थापन में सहयोग करते है। इसलिए ग्वार पाठा को सफ़ेद दाग की दवा के रूप में काम लिया जाता है और ये सफ़ेद दाग के घरेलू उपचार में सबसे अच्छा है।

सफेद दाग के इलाज के लिए ये चीजें कभी न खाएं:

हर किसी बीमारी में कुछ ना कुछ एतिहात करने पड़ते है उसी तरह सफ़ेद दाग के घरेलू उपचार के लिए भी खाने में कुछ एतिहात करने पड़ते है। जिस किसी भी चीज से आपको एलर्जी है उसका आपको त्याग कर देना चाहिए। जब तक आपको सफ़ेद दाग है तब तक आपको खट्टे फल, मछली मांस, टमाटर, अचार, अंगूर कार्बोनेटेड, ड्रिंक्स, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ,अनार, शराब, इनका सेवन तो आपको बिलकुल ही छोड़ देना चाहिये।

सफ़ेद दाग में फायदे के लिए हमेशा ढीले कपड़े पहने:

आपको हमेशा तंग कपड़े पहनने से बचना चाहिए। क्यों की ज्यादा टाइट कपड़े आपके रक्त परिसंचरण को प्रतिबंधित करते हैं। आपको हमेशा ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जो आपको धुप से बचाये और कृतिम रौशनी से बचाये।

ज्यादा तनाव लेने से बचे

ये बात तो हर कोई जनता है की ज्यादा तनाव हमेशा सेहत के लिए हानिकारक होता है।  आपका दिमाग अगर फ्रेश होता है तो ये आपके लिए होता है। ज्यादा तनाव से आप अपने शरीर को पर्याप्त पोषण नहीं दे पाते है और ना ही आप किसी तरह का योग, मालिश,नियमित वाक आदि भी नहीं कर पाते।

एक्टोपिक प्रेग्नेंसी कारण,लक्षण,इलाज,रोकथाम…

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 352

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top