what is stomach pain

Stomach pain in hindi पेट दर्द: प्रकार,लक्षण,कारण,बचाव

पेट हमारे शरीर के हिस्से का एक ऐसा नाजुक भाग है जिसमें यदि कोई भी समस्या हो जाए तो हमारा पूरा शरीर हिल जाता है। अब पेट दर्द(Stomach pain) को ही ले लीजिए एक छोटा सा पेट दर्द छोटे बच्चे से लेकर बड़ों तक को पूरी तरह से हिला कर रख देता है। आज हम आपको बताने वाले हैं कि पेट दर्द क्या होता है और किस प्रकार आपको हो सकता है या होता है। आज हम बताएंगे आपको कि पेट दर्द कितने प्रकार के होते हैं और उनके क्या लक्षण होते हैं पेट दर्द से कैसे बचाव कर सकते हैं और क्या इलाज कर सकते हैं….

पेट दर्द क्या होता है?(What is stomach pain?) 

हमारे पाचन तंत्र में छोटी सी गड़बड़ पेट दर्द को जन्म देती है। पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द या फिर निचले हिस्से में दर्द या गैस की वजह से दाएं और बाएं हिस्से में भी दर्द हो सकता है। कई बार दर्द कम या ज्यादा तेज भी हो सकता है। कभी-कभी दर्द लंबे समय तक रहता है तो कभी कबार थोड़े समय के लिए ही होता है। कुछ लोगों को पेट दर्द (Stomach pain) जैसी गंभीर समस्या निरंतर बनी रहती है और उसका सबसे ज्यादा कारण गैस का बनना होता है जिसकी वजह से पेट में कई प्रकार की बीमारियाँ भी हो जाती हैं। अक्सर गैस जैसी समस्या गर्भवती महिलाओं में देखी जाती हैं जिसकी वजह से उन्हें हल्का व तेज दर्द महसूस होता है।

पेट दर्द के विभिन्न प्रकार(Different types):- 

  • सामान्य दर्द:– पेट दर्द(stomach pain) एक सामान्य प्रकार का दर्द भी होता है जो अलग-अलग बीमारियों के साथ भी हो सकता है और अनियमित और अपच खान-पान की वजह से भी हो सकता है। कई बार इस प्रकार के दर्द वह पेट में उत्पन्न होने वाली समस्याएं स्वतः ही बिना किसी उपचार के ठीक हो जाती है परंतु जब ज्यादा कठोर दर्द होने लगता है तो वह आंतों की रुकावट का लक्षण भी हो सकता है ऐसे में सही उपचार पेट दर्द को ठीक करने के लिए बेहद आवश्यक हो जाता है। 
  • स्थानीय दर्द:- स्थानीय दर्द पेट के एक हिस्से में लंबे समय तक बना रहता है कभी कबार वह दर्द असहनीय और  अचानक बढ़ने वाला दर्द बन जाता है। अपेंडिसाइटिस एक पेड़ से जुड़ी ही समस्या है जिसका दर्द अचानक से सामान्य रूप से पेट के एक हिस्से से शुरू होता है और एक गंभीर बीमारी का रूप ले लेता है। अक्सर पेट दर्द का कारण पित्ताशय या पौष्टिक अल्सर के रूप में भी बदल जाता है। यदि आपके पेट में लगातार लंबे समय तक दर्द रहता है तो यह पेट के किसी अंग की सूजन का लक्षण भी हो सकता है।
  • एठन (क्रैंपिंग):- यह एक ऐसा दर्द होता है जो पेट में हल्के व तेज दर्द के रूप में आता जाता रहता है। जिसकी वजह से पेट में कभी-कभी अठन महसूस होती है जिसका समाधान गैस की दवाई या मल पारित करने से हो जाती है। यह एक ऐसे प्रकार का दर्द होता है जो अक्सर कुछ महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होता है। आमतौर पर यह दर्द और सामान्य अठन चिंता का कारण नहीं होती है यदि वह 24 घंटों से अधिक समय तक के लिए एक जगह पर ना रहे तो।

पेट दर्द के लक्षण(Symptoms of stomach pain):-

पेट में दर्द कई कारणों से हो सकता है यदि वह गंभीर कारण हो तो उसका समय पर इलाज करना आवश्यक है। तो आइए जानते हैं कुछ सामान्य व महत्वपूर्ण लक्षणों के बारे में जिनसे पता लगता है कि आपको पेट दर्द से जुड़ी कोई गंभीर समस्या है।

  • पेट में कोई गुम चोट लगने के कारण दर्द
  • पेट स्पर्श करने में मुलायम महसूस होना
  • बुखार की वजह से पेट में दर्द
  • उल्टी में रक्त आना
  • सांस लेने में तकलीफ होना
  • मल के साथ खून का निकलना
  • दर्दनाक व सामान्य रूप से पेशाब का आना
  • गर्भावस्था के दौरान होने वाला दर्द
  • कई दिनों तक धीरे-धीरे पेट में ऐठन रहना।

पेट दर्द के कुछ मुख्य कारण(some of the main causes)

आखिर क्यों होता है पेट दर्द क्या कारण है कि आपको पेट दर्द जैसी गंभीर समस्या से जूझना पड़ता है आइए जानते हैं कुछ मुख्य व चर्चित कारणों के बारे में….

  • अपच खाना
  • कब्ज होना
  • इरिटेबल बाउल सिंड्रोम जो मुख्य रूप से बड़ी आत को प्रभावित करता है।
  • अपेंडिसाइटिस
  • पेट में होने वाला वायरल इनफेक्शन
  • मासिक धर्म में होने वाली ऐंठन
  • फूड पॉइजनिंग
  • फूड एलर्जी
  • दूध और डेयरी उत्पादों में पाए जाने वाली प्राकृतिक चीनी शरीर द्वारा ना पचाई जाने की समस्या।
  • अल्सर या कोई फोड़ा
  • पेल्विक क्षेत्र की सूजन की बीमारी
  • हर्निया की बीमारी
  • पित्ताशय की पथरी
  • एंड्रोमेट्रीऑसिस
  • क्रोहन रोग (पाचन तंत्र में होने वाली सूजन)
  • अल्सरेटिव कोलाइटिस
  • मूत्र पथ में किसी प्रकार का संक्रमण

कुछ अन्य प्रकार के गंभीर कारण:- 

  • कुछ दिल के दौरे और निमोनिया की वजह से भी पेट में दर्द हो सकता है।
  • पेल्विस या पीठ और जांघ के बीच के भाग की बीमारियों के दौरान पेट में दर्द की संभावना बढ़ जाती है। 
  • कुछ त्वचा के चकत्ते और बाद भी पेट में दर्द की समस्या उत्पन्न कर सकते हैं। 
  • कुछ जहरीले कीड़ों के काटने की वजह से भी पेट दर्द होता है।

पेट दर्द से बचाव करने के सही तरीके(right ways to prevent stomach pain)

यदि हम अपनी जीवनशैली को सुचारु रुप से चलाते रहेंगे और उसमें सभी प्रकार के नियमों का पालन उचित सरकार से करेंगे तो हम बीमार नहीं पड़ेंगे। तो आइए जानते हैं पेट दर्द से बचने के कुछ उपाय:- 

  •  भोजन चबाने का सही तरीका अपनाएं:- अक्सर आप जल्दबाजी में खाना खाते हैं ऐसे में आप बड़ा निवाला लेकर उसे पूरी तरह से चबाते नहीं है और सीधे निगल जाते हैं ऐसे में आपके पेट में भोजन के साथ-साथ हवा भी अंदर चली जाती है जिसकी वजह से पेट में गैस जैसी समस्या उत्पन्न होती है और पेट दर्द का जन्म होता है।  इसलिए सदैव ध्यान रखें कि भोजन को धीरे-धीरे मुंह बंद करके जब आएं और उसके बाद ही निगले ताकि आपके पेट में किसी भी प्रकार की गैस व हवा प्रवेश ना कर सके और भोजन भी पूरी तरह से पच सकें। 
  • भोजन के बीच के अंतराल को कम करें:-  अक्षय ज्यादा देर भूखे रहने की वजह से पेट में गैस जैसी समस्या उत्पन्न होती है इसे ध्यान रखें कि लंबे समय तक भूखे ना रहे थोड़ी थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाते रहे ताकि आपके पेट में दर्द या गैस जैसी समस्या उत्पन्न ना हो।  
  • सामान्य भोजन खाएं:– वसायुक्त, तला हुआ और मसालेदार भोजन आप के पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा कर उस की प्रक्रिया को पूरी तरह से धीमा कर देता है। ऐसी भोजन से आपके पेट में कब्ज जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकते हैं इनकी जगह यदि आप हरी सब्जियों और फाइबर के साथ कुछ विभिन्न प्रकार के पौष्टिक खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं तो आप का पाचन तंत्र सदैव स्वच्छ और पीड़ारहित बना रहेगा।
  • अपने चिकित्सक से सलाह ले:-  यदि आपको किसी ऐसी चीज को खाने से फूड पाइजन, पेट में किसी भी प्रकार की ऐंठन होती है तो ऐसे में आपको डॉक्टर से सलाह लेना अति आवश्यक है क्योंकि संवेदनशील भोजन खाने से आपके पेट में विभिन्न प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होती हैं जिनका पता लगाकर उन का सही इलाज करना बेहद आवश्यक होता है। 
  • अधिक पानी पिये:-  पानी हमारे शरीर से कई सारी बीमारियों का एक साथ सृजन करता है ऐसे में यदि आप निरंतर पानी पीते रहेंगे तो आपको पेट से जुड़ी किसी भी समस्या से कभी भी जूझना नहीं पड़ेगा। 
  • अपने हाथ अच्छे से धोये:- हमारा खान-पान हमारे हाथों से ही होता है इसलिए हाथ में यदि कोई भी समस्या हो तो उसका सीधा असर हमारे पेट पर होता है इसलिए कभी भी खाने पीने से पहले या बाहर से घर वापस आकर हाथों को सफाई से अच्छे से जरूर धोएं। 

इन सभी उपायों के अलावा आप डॉक्टर से मिलने वाली दवाइयां भी अपने पेट दर्द को कम करने के लिए अपना सकते हैं जिनमें कुछ निम्नलिखित हैं:- 

  • Bestozyme capsule 
  • गैस के लिए- Mylanta, Gas-X
  • जलन के लिए- Pepcid AC, Zantac 75
  • कॉन्स्टिपेशन के लिए- stool softener, laxative
  • पेट में ऐंठन के लिए- Imodium, Kaopectate or Pepto-Bismol 

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 351

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top