Second trimester of pregnancy in hindi

Second trimester of pregnancy in hindi:गर्भावस्था की दूसरी तिमाही

गर्भावस्था के दूसरे तिमाही(Second trimester of pregnancy in hindi) में माँ और भ्रूण के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ होता है। मां आमतौर पर बेहतर महसूस करना शुरू कर देती है और गर्भावस्था को अधिक एन्जॉय करना शुरू कर सकती है। गर्भ में पल रहे बच्चे के शरीर के अंग भी धीरे-धीरे विकसित होने आरंभ हो जाते हैं भ्रूण अपना आकार लेना आरंभ कर देता है और गर्भ के अंदर अपना स्थान स्थापित करना शुरू कर देता है।  

दूसरी तिमाही के दौरान, गर्भनाल को मोटा होना आरम्भ हो जाता है। गर्भनाल की मदद से ही भ्रूण तक पोषण पहुंचाया जाता है। हालांकि, हानिकारक पदार्थ गर्भनाल से गर्भ तक भी गुजरते हैं, इसलिए शराब, तंबाकू और अन्य ज्ञात खतरों से बचने के लिए देखभाल की जानी चाहिए।

First trimester of pregnancy in hindi:प्रग्नेंसी के शुरुआती तीन महीने सम्पूर्ण जानकारी

दूसरी तिमाही के दौरान, माँ के शरीर और भ्रूण दोनों का विकास जारी रहता है।

बच्चे का विकास(Child development in second trimester of pregnancy in hindi)

अब जब भ्रूण में सभी प्रमुख अंगों और प्रणालियों का गठन हो गया है, तो निम्नलिखित छह महीने बच्चे के विकास में ही निकल जाते है। भ्रूण का वजन अगले कुछ महीनों में सात गुना से अधिक होगा, क्योंकि भ्रूण एक बच्चा बन जाता है जो गर्भाशय के बाहर जीवित रह सकता है।

दूसरी तिमाही के अंत तक, भ्रूण का विकास लगभग 13 से 16 इंच लंबा होगा और इसका वजन लगभग 2 से 3 पाउंड होगा। दूसरी तिमाही के दौरान भ्रूण के विकास में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • भ्रूण किक करता है, हिलता है, और एक तरफ से दूसरी तरफ मुड़ सकता है।
  • आँखें धीरे-धीरे चेहरे के सामने की ओर जाने लगती हैं, और कान गर्दन से सिर के किनारों की ओर बनने आरंभ हो जाते हैं। भ्रूण पलने वाला बच्चा आराम से मां की आवाज सुन सकता है।
  • एक मलाईदार सफेद पदार्थ (जिसे वर्निक्स केसोसा या बस वर्निक्स कहा जाता है) भ्रूण पर दिखाई देने लगता है और पतली भ्रूण की त्वचा की रक्षा करने में मदद करता है। वर्निक्स को धीरे-धीरे त्वचा द्वारा अवशोषित किया जाता है, लेकिन कुछ जन्म के बाद भी शिशुओं पर देखा जा सकता है।
  • इस समय मे भ्रूण निगलने और चूसने जैसी सजगता विकसित करने लगता है।
  • भ्रूण कुछ उत्तेजनाओं का जवाब भी देना आरंभ करने लगता है।
  • नाल पूरी तरह से विकसित है।
  • 5 वें महीने से मस्तिष्क के विकास की सबसे महत्वपूर्ण अवधि से गुजरना होगा।
  • उंगलियों और पैर की उंगलियों पर उंगलियां बढ़ी हैं, और उंगलियां और पैर की उंगलियां पूरी तरह से अलग हो गई हैं।
  • भ्रूण नींद और जागने के चक्र से गुजरता है।
  • त्वचा झुर्रीदार और लाल होती है, मुलायम, नीचे के बालों (जिसे लैनुगो कहा जाता है) के साथ कवर किया जाता है।
  • भ्रूण के सिर पर बाल बढ़ रहे हैं।
  • भ्रूण पर वसा बनना शुरू हो जाता है।
  • पलकें खुलने लगी हैं और भौहें और पलकें दिखाई देने लगी हैं।
  • उंगलियों के निशान और पैर के अंगूठे का गठन किया है।
  • भ्रूण के आकार और वजन में तेजी से वृद्धि जारी है।
  • 20 वें सप्ताह गर्भावस्था के आधे बिंदु को चिह्नित करता है।

24 सप्ताह के अंत में पैदा होने वाला भ्रूण एक नवजात गहन देखभाल इकाई में जीवित रह सकता है।

एक माँ के शरीर में परिवर्तन(Change in a mother’s body Second trimester of pregnancy in hindi)

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही अधिकांश महिलाओं के लिए शारीरिक रूप से सबसे सुखद होती है। मॉर्निंग सिकनेस आमतौर पर इस समय तक समाप्त हो जाती है और अत्यधिक थकान और स्तन कोमलता आमतौर पर कम हो जाती है। इन परिवर्तनों को मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) हार्मोन के स्तर में कमी और एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के स्तर के समायोजन के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

निम्नलिखित परिवर्तनों और लक्षणों की एक सूची है जो दूसरी तिमाही के दौरान हो सकती है(The following is a list of changes and symptoms that may occur during the Second trimester of pregnancy in hindi)

  • भूख बढ़ सकती है।
  • मां पहली बार भ्रूण की हलचल को महसूस करने में सक्षम हो सकती है। 
  • इस समय में  गर्भवती महिला का पेट नजर आना आरम्भ होने लगता है।
  • पेट पर त्वचा बढ़ने के साथ-साथ खुजली हो सकती है और शरीर के किनारों पर दर्द हो सकता है क्योंकि गर्भाशय खिंचता है। 
  • निचले पेट में गर्भाशय को सहारा देने के लिए स्नायुबंधन में खिंचाव हो सकता है।
  • बार-बार पेशाब करने की आवश्यकता नही हो सकती है क्योंकि गर्भाशय श्रोणि गुहा से बाहर निकलता है, मूत्राशय पर दबाव से राहत देता है।
  • एक माँ की नाक कंजस्टेड हो सकती है और उसे नाक से खून आने का अनुभव हो सकता है। यह हार्मोन (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) में वृद्धि के कारण होता है और इनकी वजह से नाक में श्लेष्म झिल्ली प्रभावित होती हैं।
  • एक महिला के मसूड़े स्पंज हो जाते हैं और आसानी से खून बह सकता है। यह हार्मोन (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) में वृद्धि के कारण होता है जो मुंह में श्लेष्म झिल्ली को प्रभावित करते हैं।
  • वैरिकाज़ नसों और बवासीर जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।
  • एक महिला को ल्यूकोरिया नामक एक सफेद रंग का योनि स्राव हो सकता है। (एक रंगीन या खूनी निर्वहन संभावित जटिलताओं का संकेत दे सकता है और तुरंत जांच की जानी चाहिए।)
  • वजन बढ़ने के कारण पीठ दर्द होना आरम्भ हो सकता है।
  • गर्भावस्था के हार्मोन के कारण चेहरे या पेट पर त्वचा की रंजकता बदल सकती है।
  • सीने में जलन, अपच और कब्ज जैसी समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती है। 
Diet chart pregnancy in hindi:गर्भावस्था आहार चार्ट सम्पूर्ण जानकारी

दूसरी तिमाही में होने वाली जांच पड़ताल(Investigations to be held in second quarter)

दूसरी और तीसरी तिमाही की प्रसवपूर्व यात्राओं के दौरान, आपका चुना हुआ डॉक्टर आपकी वर्तमान चिकित्सा स्थिति और भ्रूण के स्वास्थ्य के आधार पर निम्नलिखित की जाँच कर सकता है:

  • कोई भी मौजूदा लक्षण या असुविधाएँ
  • माँ का वजन
  • माँ का रक्तचाप
  • मूत्र परीक्षण – एल्ब्यूमिन (एक प्रोटीन) का पता लगाने के लिए जो प्रीक्लेम्पसिया या विषाक्तता और शुगर का संकेत दे सकता है (जो हाइपरग्लाइसेमिया का संकेत दे सकता है)
  • भ्रूण का विकास, आकार और विकास
  • गर्भाशय का आकार – गर्भधारण के लगभग 12 सप्ताह के बाद, पेट की दीवार के माध्यम से गर्भाशय को महसूस किया जा सकता है
  • फंडस की ऊँचाई (गर्भाशय के ऊपर)
  • भ्रूण के दिल की धड़कन
मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 395

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top