Sciatica in Hindi

Sciatica in Hindi : साइटिका क्या है? इसके कारण,इलाज,लक्षण और सम्पूर्ण जानकारी

साइटिका क्या है  : What is Sciatica in hindi

Table of Contents HIDE

साइटिका , साइटिक तंत्र में होने वाला एक प्रकार के पीठ के दर्द को दर्शाता है  पीठ के निचले हिस्से से आपके कूल्हों और नितंबों के माध्यम से और प्रत्येक पैर के नीचे होता है। आमतौर पर साइटिका आपके शरीर के केवल एक तरफ को प्रभावित करता है। यह एक बड़ी तंत्रिका है जो प्रत्येक पैर के निचले हिस्से से नीचे की ओर चलती है। जब कोई चीज साइटिका तंत्रिका पर चोट या दबाव डालती है, तो यह पीठ के निचले हिस्से में दर्द पैदा कर सकती है जो कूल्हे, नितंब और पैर तक फैल जाती है। यह बीमारी देखा जाए तो अधिकतर आपके उठने-बैठने के गलत तरीको के कारण हो सकती है। साइटिका में केवल आपके शरीर के एक हिस्से में ही दर्द होता है, इससे नसों के हिस्से में दबाब बढ़ने से हाथ -पेरो में झुनझुनाहट और सूजन हो जाती है। साइटिका एक बहुत ही ज्यादा गंभीर बीमारी हो सकती है। यदि आप इसका समय पर इलाज नहीं करवाते हो तो यह गंभीर रूप धारण कर सकती है, फिर उस समय आपके पास कोई विकल्प नहीं बचता है और आपको सर्जरी ही करवाना पड़ सकती है।  -Sciatica in Hindi

साइटिका सबसे अधिक तब होता है जब एक हर्नियेटेड डिस्क, रीढ़ पर हड्डी का फड़कना या रीढ़ की हड्डी का सिकुड़ना (स्पाइनल स्टेनोसिस) तंत्रिका के हिस्से को संकुचित कर देता है। साइटिका प्रभावित पैर में सूजन, दर्द और अक्सर कुछ सुन्नता की समस्या का कारण बन सकता है।

हालांकि साइटिका से जुड़ा दर्द गंभीर हो सकता है, ज्यादातर मामले कुछ ही हफ्तों में गैर-ऑपरेटिव उपचार के साथ हल हो जाते हैं। जिन लोगों को गंभीर साइटिका होता है जो महत्वपूर्ण पैर की कमजोरी या आंत्र या मूत्राशय में परिवर्तन से जुड़ा होता है, वे सर्जरी के लिए उम्मीदवार हो सकते हैं। 90% तक लोग बिना सर्जरी के साइटिका से ठीक हो जाते हैं।

साइटिका के लक्षण : Symptoms of Sciatica in hindi

दर्द जो आपकी निचली (काठ) रीढ़ से आपके नितंब तक और आपके पैर के पिछले हिस्से तक जाता है, साइटिका की पहचान होता है। आप तंत्रिका मार्ग के साथ लगभग कहीं भी असुविधा महसूस कर सकते हैं, लेकिन यह विशेष रूप से आपकी पीठ के निचले हिस्से से आपके नितंब और आपकी जांघ और कूल्हे के पीछे के मार्ग का अनुसरण करता है ।साइटिका का सबसे आम लक्षण पीठ के निचले हिस्से में दर्द है जो कूल्हे और नितंब और एक पैर के नीचे तक फैलता है। दर्द आमतौर पर केवल एक पैर को प्रभावित करता है 

दर्द व्यापक रूप से भिन्न हो सकता है, हल्के दर्द से लेकर तेज, जलन या कष्टदायी दर्द तक। कभी-कभी यह झटके या बिजली के झटके जैसा महसूस हो सकता है। और लंबे समय तक बैठे रहने से लक्षण बढ़ सकते हैं। आमतौर पर आपके शरीर का केवल एक ही पक्ष प्रभावित होता है।और जब आप बैठते हैं, खांसते हैं या छींकते हैं तो यह बढ़ सकता है। पैर कभी-कभी सुन्न, कमजोर या झुनझुनी भी महसूस कर सकता है। साइटिका के लक्षण अचानक प्रकट होते हैं और कुछ दिनों या हफ्तों तक रह सकते हैं।

कुछ लोगों को प्रभावित पैर या पैर में सुन्नता, झुनझुनी या मांसपेशियों में कमजोरी भी होती है। आपके पैर के एक हिस्से में दर्द और दूसरे हिस्से में सुन्नता हो सकती है।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए :  When to see a doctor

हल्का साइटिका आमतौर पर समय के साथ दूर हो जाता है। अपने डॉक्टर से संपर्क करें यदि स्व-देखभाल के उपाय के बाद भी आपके लक्षण कम नहीं होते हैं या यदि आपका दर्द एक सप्ताह से अधिक समय तक रहता है, क्योकि यह स्थिति गंभीर हो सकती है तत्काल चिकित्सा देखभाल प्राप्त करें यदि:

  • आपकी पीठ के निचले वाले हिस्से में या पैर में अचानक से तेज दर्द होने लग जाता है यदि आपको पैर में सुन्नता या मांसपेशियों में कमजोरी महसूस हो रही है
  • दर्द एक हिंसक चोट के बाद होता है, जैसे कि यातायात दुर्घटना
  • आपको अपनी आंत या मूत्राशय को नियंत्रित करने में परेशानी होती है

साइटिका होने के कारण : Causes of Sciatica in hindi 

साइटिका तब होता है जब साइटिका तंत्रिका पिंच हो जाती है, जिसका संबंद कमर से सबंधित नसों से होता है। इसमें आपको पीठ दर्द हो सकता है, यह बीमारी साइटिका तंत्रिका ट्यूमर के कारण हो सकती है।

यह पर निम्नलिखित कुछ ऐसी स्थितियां बताई गई है जो साइटिका होने का कारण हो सकती है।

स्पाइनल स्टेनोसिस (Spinal Stenosis

 साइटिका के प्राकृतिक टूट-फूट से रीढ़ की हड्डी की लाइन सिकुड़ सकती है। यह संकुचन, जिसे स्पाइनल स्टेनोसिस कहा जाता है, साइटिका तंत्रिका की जड़ों पर दबाव डाल सकता है।यह संकुचन जो होता है वह साइटिका तंत्रिका और रीढ़ की हड्डियों पर दबाव डालने का कार्य करता है। स्पाइनल स्टेनोसिस 60 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में अधिक आम है।-Sciatica in hindi

हर्नियेटेड डिस्क (Herniated Disc)

हर्नियेटेड डिस्क को ही स्लिप डिस्क भी कहा जाता है। यह रीढ़ की हड्डी जो कार्टिलेज होती हे उससे अलग होती है। कार्टिलेज जो होता है वह एक गाढ़े साफ़ पदार्थ से पूरा भरा हुआ होता है डिस्क आपकी रीढ़ की हड्डी के कशेरुकाओं के बीच कुशन की तरह काम करती है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, ये डिस्क कमजोर होती जाती हैं और चोट लगने की संभावना अधिक होती जाती है।यह जो होता है वह हड्डियों को चारो तरफ घुमाने का कार्य करता है। यह बीमारी तब हो जाती है जब कार्टिलेज में से उसकी पहली परत हट जाती है। इसके अंदर के जो पदार्थ होते है वह साइटिका तंत्रिका को संकुचित करने का कार्य करते है। जिसके कारण हमे शरीर के निचले हिस्से में सुन्नता या दर्द महसूस होता है। एक अनुमान के अनुसार प्रत्येक 50 में से एक व्यक्ति को हर्नियेटेड डिस्क की बीमारी होती है।

स्पाइनल ट्यूमर(Spinal Tumors)

दुर्लभ मामलों में, साइटिका रीढ़ की हड्डी या साइटिका तंत्रिका के अंदर या उसके साथ बढ़ने वाले ट्यूमर के परिणामस्वरूप हो सकता है। जैसे-जैसे ट्यूमर बढ़ता है, यह रीढ़ की हड्डी से निकलने वाली नसों पर दबाव डाल सकता है।

पिरिफोर्मिस सिंड्रोम(Piriformis Syndrome)

पिरिफोर्मिस एक मांसपेशी है जो नितंबों के अंदर गहरी पाई जाती है। यह निचली रीढ़ की हड्डी को ऊपरी जांघ की हड्डी से जोड़ता है और सीधे साइटिका तंत्रिका के ऊपर चलता है। यदि इन मांसपेशी में ऐंठन हो जाती है, तो यह साइटिका के लक्षणों को ट्रिगर करते हुए, साइटिक तंत्रिका पर दबाव डाल सकती है। पिरिफोर्मिस सिंड्रोम महिलाओं में अधिक आम है।

स्पोन्डयलोलिस्थेसिस (Spondylosis)

 स्पोन्डयलोलिस्थेसिस डिजनरेटिव डिस्क विकार उन स्थितियों में से एक होता है। जब कभी रीढ़ की हड्डी या कशेरुक एक दूसरे के आगे बढ़ जाती है तो यह स्थिति बन जाती है।

साइटिका के जोखिम कारकों में शामिल हैं: Risk factors of Sciatica in hindi 

उम्र (Age)

 रीढ़ की हड्डी में उम्र से संबंधित परिवर्तन, जैसे हर्नियेटेड डिस्क और बोन स्पर्स, साइटिका के सबसे आम कारण हैं।

मोटापा(Obesity

आपकी रीढ़ की हड्डी पर तनाव बढ़ाकर, शरीर का अतिरिक्त वजन रीढ़ की हड्डी में परिवर्तन में योगदान कर सकता है जो साइटिका को ट्रिगर करता है।

पेशा(Occupation

एक नौकरी जिसमें आपको अपनी पीठ मोड़ने, भारी भार उठाने या लंबे समय तक मोटर वाहन चलाने की आवश्यकता होती है, साइटिका में एक भूमिका निभा सकता है, लेकिन इस लिंक का कोई निर्णायक सबूत नहीं है।

लंबे समय तक बैठे रहना(Prolonged sitting

जो लोग लंबे समय तक बैठते हैं या गतिहीन जीवन शैली रखते हैं, उनमें सक्रिय लोगों की तुलना में साइटिका विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

मधुमेह(Diabetes

यह स्थिति, जो आपके शरीर के रक्त शर्करा के उपयोग के तरीके को प्रभावित करती है, आपके तंत्रिका क्षति के जोखिम को बढ़ाती है।

साइटिका में जटिलताए : Complications of Sciatica 

हालांकि अधिकांश लोग साइटिका से पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं, अक्सर उपचार के बिना, साइटिका संभावित रूप से स्थायी तंत्रिका क्षति का कारण बन सकती है। इसलिए तुरंत डॉक्टर की सलाह ले। 

  • प्रभावित पैर में महसूस करने की हानि
  • प्रभावित पैर में कमजोरी
  • आंत्र या मूत्राशय के कार्य का नुकसान

साइटिका से बचाव : Prevention of Sciatica in Hindi

साइटिका को रोकना हमेशा संभव नहीं होता है, और स्थिति फिर से हो सकती है। निम्नलिखित उपाय आपकी पीठ की रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं:

नियमित रूप से व्यायाम करें(Exercise regularly)

अपनी पीठ को मजबूत रखने के लिए, अपनी मुख्य मांसपेशियों पर विशेष ध्यान दें – आपके पेट और पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियां जो उचित मुद्रा और संरेखण के लिए आवश्यक हैं। अपने डॉक्टर से व्यायाम के लिए परामर्श ले। 

बैठते समय उचित मुद्रा बनाए रखें(Maintain proper posture when you sit)

पीठ के निचले हिस्से के अच्छे सपोर्ट, आर्मरेस्ट और घूमने वाली सीट चुनें। अपने सामान्य वक्र को बनाए रखने के लिए अपनी पीठ के छोटे हिस्से में एक तकिया या लपेटा हुआ तौलिया रखने पर विचार करें। अपने घुटनों और कूल्हों को समतल रखें।

अच्छे शरीर यांत्रिकी का प्रयोग करें(Use good body mechanics)

यदि आप लंबे समय तक खड़े रहते हैं, तो समय-समय पर एक पैर स्टूल या छोटे बॉक्स पर रखें। जब आप कोई भारी चीज उठाते हैं, तो अपने निचले अंगों को काम करने दें। सीधे ऊपर और नीचे ले जाएँ। अपनी पीठ को सीधा रखें और घुटनों के बल ही झुकें। भार को अपने शरीर के पास रखें। एक साथ उठाने और घुमाने से बचें। यदि वस्तु भारी या अजीब है तो उठाने वाला साथी खोजें।

यदि आपको एक बार साइटिका हुआ है, तो ऐसा हो सकता है की वह वापस हो जाए। लेकिन इससे बचने के लिए आप कुछ नियम का पालन कर  सकते हैं:

  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • अच्छी मुद्रा बनाए रखें।
  • भारी वस्तुओं को उठाने के लिए घुटनों के बल झुकें।

ये कदम आपको पीठ की चोटों से बचने में मदद कर सकते हैं जिससे साइटिका हो सकता है।

साइटिका का मूल्यांकन / परिक्षण : Diagnosis of Sciatica in Hindi

शारीरिक परीक्षा के दौरान, आपका डॉक्टर आपकी मांसपेशियों की ताकत और सजगता की जांच कर सकता है। उदाहरण के लिए, आपको अपने पैर की उंगलियों या एड़ी पर चलने, बैठने की स्थिति से उठने और अपनी पीठ के बल लेटते समय अपने पैरों को एक-एक करके उठाने के लिए कहा जा सकता है। साइटिका से होने वाला दर्द आमतौर पर इन गतिविधियों के दौरान बड़ जाएगा।

साइटिका के लिए टेस्ट : Tests of Sciatica in Hindi

बहुत से लोगों को हर्नियेटेड डिस्क या हड्डी के स्पर्स(bone spurs) होते हैं पर उनके लक्षण दिखाई नहीं देते है  जो एक्स-रे और अन्य इमेजिंग परीक्षणों पर दिखाई दे सकते है  इसलिए डॉक्टर आमतौर पर इन परीक्षणों का आदेश नहीं देते हैं जब तक कि आपका दर्द गंभीर न हो, या कुछ हफ्तों के भीतर इसमें सुधार न हो।

एक्स-रे(X-ray) आपकी रीढ़ की हड्डी के एक्स-रे से हड्डी (हड्डी के स्पर) के अतिवृद्धि का पता चल सकता है जो तंत्रिका पर दबाव डाल सकता है।

एमआरआई(MRI) यह प्रक्रिया आपकी पीठ की क्रॉस-सेक्शनल छवियों को बनाने के लिए एक शक्तिशाली चुंबक और रेडियो तरंगों का उपयोग करती है। एक एमआरआई हड्डी और कोमल ऊतकों जैसे हर्नियेटेड डिस्क की विस्तृत छवियां तैयार करता है। परीक्षण के दौरान, आप एक मेज पर लेट जाते हैं जो एमआरआई मशीन में चले जाते है।

सीटी स्कैन(CT scan) जब रीढ़ की छवि के लिए सीटी स्कैन का उपयोग किया जाता है, तो एक्स-रे लेने से पहले आपकी रीढ़ की हड्डी की नहर में एक कंट्रास्ट डाई इंजेक्ट की जा सकती है – एक प्रक्रिया जिसे सीटी मायलोग्राम कहा जाता है। डाई तब आपकी रीढ़ की हड्डी और रीढ़ की हड्डी के चारों ओर घूमती है, जो स्कैन पर सफेद दिखाई देती है।

इलेक्ट्रोमोग्राफी (ईएमजी)(Electromyography (EMG)) यह परीक्षण नसों द्वारा उत्पादित विद्युत आवेगों और आपकी मांसपेशियों की प्रतिक्रियाओं को मापता है। यह परीक्षण हर्नियेटेड डिस्क या आपकी स्पाइनल कैनाल (स्पाइनल स्टेनोसिस) के संकुचन के कारण तंत्रिका संपीड़न की पुष्टि कर सकता है।

साइटिका का इलाज : Treatment

यदि आपका दर्द स्व-देखभाल के उपायों से नहीं सुधरता है, तो आपका डॉक्टर निम्नलिखित में से कुछ उपचार सुझा सकता है।

दवाएं(Medications)

साइटिका दर्द के लिए निम्न प्रकार की दवाओं का उपयोग किया जा सकता है। 

  • विरोधी इन्फ़्लम्मतोरीज़ (Anti-inflammatories)
  • मांसपेशियों को आराम देने वाली (Muscle relaxants)
  • नशीले पदार्थों(Narcotics)
  • ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट(Tricyclic antidepressants)
  • एंटी सीज़र दवाएं(Anti-seizure medications)
शारीरिक चिकित्सा (Physical therapy)

एक बार जब आपके तीव्र दर्द में सुधार हो जाता है, तो आपका डॉक्टर या भौतिक चिकित्सक (physical therapist)भविष्य की चोटों को रोकने में आपकी मदद करने के लिए एक पुनर्वास कार्यक्रम तैयार कर सकता है। इसमें आमतौर पर आपके आसन को सही करने, आपकी पीठ को सहारा देने वाली मांसपेशियों को मजबूत करने और आपके लचीलेपन में सुधार करने के लिए व्यायाम शामिल हैं।

स्टेरॉयड इंजेक्शन(Steroid injections)

कुछ मामलों में, आपका डॉक्टर दर्द में शामिल नस के आसपास के क्षेत्र में कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवा के इंजेक्शन की सिफारिश कर सकता है। कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स इर्रिटेटेड नस के आसपास सूजन को दबाकर दर्द को कम करने में मदद करते हैं। प्रभाव आमतौर पर कुछ महीनों में बंद हो जाते हैं। आपके द्वारा प्राप्त किए जाने वाले स्टेरॉयड इंजेक्शन की संख्या सीमित है क्योंकि इंजेक्शन के बहुत बार होने पर गंभीर दुष्प्रभावों का जोखिम बढ़ जाता है।

शल्य चिकित्सा(Surgery)

यह विकल्प आमतौर पर तब के लिए आरक्षित होता है जब संकुचित तंत्रिका महत्वपूर्ण कमजोरी, आंत्र या मूत्राशय पर नियंत्रण की हानि का कारण बनती है, या जब आपको दर्द होता है तो वह बहुत ज्यादा होता है या अन्य उपचारों के साथ सुधार नहीं होता है। सर्जन बोन स्पर या हर्नियेटेड डिस्क के उस हिस्से को हटा सकते हैं जो पिंच की हुई नस पर दबाव डाल रहा है।

साइटिका का घरेलू उपचार : home remedies for Sciatica in Hindi

अधिकांश लोगों के लिए, साइटिका स्व-देखभाल के उपायों से ठीक हो जाता है। हालांकि एक या दो दिन आराम करने से कुछ राहत मिल सकती है, पर हालत गंभीर होने पर तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करे। 

अन्य स्व-देखभाल उपचार जो मदद कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

ठंडे पैक(Cold packs)

 प्रारंभ में, आपको दर्द वाली जगह पर दिन में कई बार 20 मिनट तक ठंडे पैक से राहत मिल सकती है। एक साफ तौलिये में लपेटकर आइस पैक या फ्रोजन मटर के पैकेज का प्रयोग करें।

गर्म पैक(Hot packs)

 दो से तीन दिनों के बाद, चोट लगने वाले क्षेत्रों पर गर्म पैक लगाएं। सबसे कम सेटिंग पर हॉट पैक, हीट लैंप या हीटिंग पैड का उपयोग करें। यदि आपको लगातार दर्द हो रहा है, तो गर्म और ठंडे पैक को बारी-बारी से आज़माएं।

खिंचाव(Stretching)

आपकी पीठ के निचले हिस्से के लिए स्ट्रेचिंग व्यायाम आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकते हैं और नस के मूल संपीड़न को दूर करने में मदद कर सकते हैं। खिंचाव के दौरान मरोड़ने, उछलने या मुड़ने से बचें, और खिंचाव को कम से कम 30 सेकंड तक पकड़ने की कोशिश करें।

डिस्क्लेमर : इस साइट में शामिल जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य डॉक्टर द्वारा चिकित्सा उपचार का विकल्प नहीं है। हर व्यक्ति की विशिष्ट व्यक्तिगत आवश्यकताओं के कारण, पाठक को पाठक की स्थिति की जानकारी की उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 439

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top