Piles in hindi

Piles in Hindi :बवासीर (Bawaseer) क्या है इसकी सम्पूर्ण जानकारी

बवासीर क्या है- What is Bawaseer/Piles/ Hemorrhoids

Table of Contents HIDE

बवासीर (Hemorrhoids), जिसे पाइल्स भी कहा जाता है, बवासीर गुदा के आसपास या निचले मलाशय में स्थित सूजन वाली नसें होती हैं।बवासीर या तो आंतरिक या बाहरी हो सकता है। आंतरिक बवासीर गुदा या मलाशय के भीतर विकसित होते हैं। बाहरी बवासीर गुदा के बाहर विकसित होती है। बवासीर को पाइल्स के रूप में भी जाना जाता है।-Piles in Hindi

बवासीर एक बहुत ही आम समस्या है जो किसी भी उम्र के महिला या पुरुष को हो सकती है ये नसों के अंदर लगातार उच्च दबाव,कब्ज,मल त्याग के दौरान अत्यधिक तनाव ,दस्त के कारण हो सकती है ,यह सूजन जो होती है वह सामान्यता गोल और फीकी छोटी गांठ होती है ,कुछ मरीज गांठों को गुदा पर अनुभव कर सकते है। या गुदा नलिका से लटक सकते हैं। बहुत बार, ये गांठ बहुत दर्दनाक हो सकती हैं और यहाँ तक किसी भी प्रकार के नुकसान की वजह से खून भी आ सकता है|

बवासीर के लिए एक और शब्द है। हेमोर्रोइड्स ,यह गुदा नलिका में सूजन और ऊतक का संग्रह है। जो रक्त वाहिकाओं, सपोर्ट ऊतक, मांसपेशियों और इलास्टिक फाइबर को कंटेन करता हैं।

कई लोगो को पाइल्स हो सकता है ,लेकिन इसके लक्षण और कारण साफ नहीं होते है। पाइल्स ५० साल की उम्र से पहले यू.एस में ५० परसेंट लोगो में पाया गया है |द इंडियन जर्नल ऑफ सर्जरी द्वारा वर्ष 2017 में प्रकाशित एक शोध के अनुसार, 50 वर्ष से अधिक आयु के भारत में आधे पुरुष और महिलाएं अपने जीवनकाल में बवासीर के लक्षणों को अनुभव कर सकते हैं। 

उम्र बढ़ने के अपने फायदे और नुकसान हैं।बवासीर एक ऐसी स्थिति है जब आपके मलाशय में या गुदा के चारों ओर की त्वचा के नीचे नसें होती हैं।वह सूज जाती है यह सूजी हुई रक्त वाहिकाएं मल त्याग को दर्दनाक तीव्रता वाले अनुभव में बदल सकती हैं।हालांकि बवासीर कभी-कभी खतरनाक होते हैं, अगर इन्हें अनदेखा कर दिया जाए, तो यह गंभीर स्वास्थ्य जटिलताओं का कारण बन सकता है। सौभाग्य से, बवासीर के इलाज के लिए प्रभावी विकल्प उपलब्ध हैं। कई लोगों को घरेलू उपचार और जीवनशैली में बदलाव से राहत मिलती है।

इस ब्लॉग में, आइए उन कारणों, प्रकारों, लक्षणों और उपायों के बारे में एक स्पष्ट तस्वीर प्राप्त करें जो बवासीर को रोकने या ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

बवासीर के लक्षण -Symptoms of Piles in hindi/Symptoms of Bawaseer in hindi/Symptoms of Hemorrhoids in hindi

बवासीर के लक्षण कुछ ही दिनों में अपने आप कम हो जाते हैं। हालांकि, कुछ मामलों में, इन पर ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए। पर कुछ प्रारंभिक लक्षणों की अनदेखी करने से गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं,इन लक्षण पर ध्यान देना चाहिए -Piles in Hindi

  • मल त्यागने के बढ़ भी पाइल्स वाले व्यक्ति  को ऐसा लगता है की आंत्र अभी भी भरी हुई है 
  • मल को त्यागने के दौरान दर्द होता है।
  •  गुदा में या आसपास एक गांठ
  • मल त्याग के दौरान रक्तस्राव
  • गुदा से रिसाव मल या पतला बलगम स्राव
  • कब्ज की अनुभूति-पेट सफा चूर्ण की जानकारी फायदे, उपयोग और नुकसान
  • रेक्टल दर्द
  • गुदा के आसपास त्वचा पर दर्द का अनुभव 
  • गुदा के आसपास त्वचा पर खुजली 
  •  बाहरी बवासीर में ,मल त्याग के बाद दर्द का अनुभव होना 

बवासीर कुछ गंभीर स्थितयो में बढ़ जाता है। ये स्थितियो हो सकती है :

  • गुदा से अत्यधिक रक्तस्राव होना , संभवतः यह एनीमिया के लिए भी उत्तरदायी हो सकता है 
  • संक्रमण
  • मल असंयम

बवासीर के प्रकार : Types of Bawaseer in hindi/Types of Hemorrhoids in hindi

पाइल्स को दो श्रेणियों में विभाजित किया जाता है- आंतरिक बवासीर(internal piles) और बाहरी बवासीर(external piles)-Piles in Hindi

जैसा की नाम से पता चल रहा है ,गुदा नलिका के जो अंदर होता है वह आंतरिक बवासीर(internal piles) होता है,लेकिन यह पाइल्स बहार भी आ सकता है और यह गुदा के बहार लटक सकता है इस टाइप के पाइल्स को आगे इस आधार पर विभाजित किया जाता है की क्या वह गुदा से बहार आ जाते है और अगर बहार आते है तो कितनी दूर तक बहार आ जाते है उनका वर्गीकरण निम्न अनुसार है 

  • पाइल्स की पहली स्थिति– इसमें गुदा के आसपास सूजन हो जाती है इसमें गुदा के अंदर छोटे छोटे मस्से हो जाते है जो हमें दिखाई नहीं देते है।   इस प्रकार के पाइल्स में मस्से बहार नहीं आते पर उनसे खून बह सकता है
  • पाइल्स की दूसरी स्थिति–  इसमें जो मस्से होते है वो थोड़े बड़े आकर के होते है।  मल के गुजरने के दौरान धक्का लगने से बहार आ सकते है ,  लेकिन बाद में अंदर चले जाते हैं
  • पाइल्स की तीसरी स्थिति– जब आंतरिक बवासीर सूज जाता है ,इन्हें प्रोलैप्सड बवासीर के रूप में भी जाना जाता है ,इसमें मस्से गुदा के बाहर दिखाई देते है। वे बाहर आते हैं पर आप यदि उनको धक्का देंगे तो वह वापस अंदर चले जाएंगे। 
  •  पाइल्स की चौथी  स्थिति: वे आपके गुदा से आंशिक रूप से बाहर हैं और उन्हें अंदर नहीं धकेला जा सकता है।इसमें यह गाठ की तरह बड़े आकर के होते है यह बहुत ही तकलीफ देते है  और इन्हे उपचार की आवश्यकता होती है। वे बड़े हैं और गुदा के बाहर रहते हैं।इनमे खून जमा हो जाता है और खुजली होती है

दूसरी ओर, बाहरी बवासीर(external piles) गुदा के बाहरी किनारे पर छोटी गांठ होती है। वे बहुत खुजली करते हैं और दर्दनाक हो सकते हैं यदि रक्त का थक्का विकसित हो जाता हे तो, क्योंकि रक्त का थक्का रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध कर सकता है। थ्रोम्बोज्ड बाहरी बवासीर(Thrombosed external piles), या बवासीर के जो थक्के हैं, उन्हें तत्काल चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होती है।

बवासीर के कारण : Causes of Piles in hindi/Causes of Bawaseer in hindi/Causes of Hemorrhoids in hindi

शरीर के अंदर निचले मलाशय में अगर दबाव बढ़ जाता है तो यह बबसीर का कारण होता है गुदा के आसपास मौजूद रक्त नलिकाय दबाव में खिंचाव करेंगी और यह पाइल्स का कारण बन सकती है और इसकी अन्य वजह यह भी हो सकती है :Piles in Hindi

  • पुराना कब्ज
  • पुरानी डायरिया
  • भारी वजन उठाना
  • गर्भावस्था
  • एक स्टूल पास करते समय तनाव
  • बवासीर को विकसित करने की प्रवृत्ति जेनेटिक भी हो सकता है और यह समस्या उम्र के साथ बढ़ सकती है 
  • मोटापा
  • पेट का कैंसर
  • रीढ़ की हड्डी की चोट 
  • दस्त 
  • शौचालय पर लंबे समय तक बैठे रहना
  • मल त्याग के दौरान तनाव
  • कम फाइबर वाला आहार लेना
  • अपर्याप्त तरल पदार्थ का सेवन
  • लगातार बैठे या लंबे समय तक खड़े रहना

बवासीर का निदान : Diagnosis of Piles in hindi/Diagnosis of Bawaseer in hindi/Diagnosis of Hemorrhoids in hindi

डॉक्टर आपकी  जांच करेगा और आपसे लक्षणों के बारे में पूछेगा, आमतौर पर शारीरिक परीक्षण करने के बाद ही डॉक्टर  बवासीर का निदान कर सकता है। वे संदिग्ध बवासीर वाले व्यक्ति के गुदा की जांच करेंगे।

डॉक्टर निम्नलिखित प्रश्न पूछ सकते हैं:

  • क्या किसी करीबी रिश्तेदार को बवासीर है?
  • क्या मल में कोई रक्त या बलगम है?
  • क्या आपका हल ही में कुछ वजन कम हुआ है 
  • मल किस रंग के होते हैं?

इंटरनल पाइल्स (आंतरिक बवासीर) में डॉक्टर एक DRE(डिजिटल रेक्टल परीक्षा) कर सकता है या फिर प्रॉक्टोस्कोप उपयोग करता है ,प्रोक्टोस्कोप एक खोखली ट्यूब होती है जो प्रकाश से सज्जित होती है। प्रॉक्टोस्कोप की सहयता से डॉक्टर गुदा नलिका को करीब से देख सकता है वह मलाशय के अंदर से ऊतक का सैम्पल ले सकते है और उसे जाँच के लिए प्रयोगशाला भेजा जा सकता है ।डॉक्टर आपको कोलोनोस्कोपी या सिग्मायोडोस्कोपी करवाने का भी बोल सकता है सिग्मायोडोस्कोपी में आंतरिक रक्तस्राव की समस्या का समाधान करने के लिए एक कैमरे का इस्तेमाल किया जाता है इस फाइबर-ऑप्टिक कैमरे को सिग्मोइडोस्कोप कहते है यह एक छोटी ट्यूब में फिट किया जाता है फिर इसको मलाशय में प्रविष्ट कराया जाता है इस टेस्ट को करने से डॉक्टर को आपके मलाशय के अन्दर का स्पष्ट दृष्टिकोण मिल जाता है ताकि वो आपके रक्तस्रावी की जांच कर पाए |

 कुछ मामलों में, चिकित्सक यह भी जानने के लिए एक मरीज का रक्त परीक्षण करवा सकता है कि क्या आप एनीमिया से पीड़ित हैं, ऐसी स्थिति जहां लाल रक्त कोशिकाएं सामान्य से कम होती हैं। एनीमिया में यह सुझाव दिया जाता है कि बवासीर की समस्या गंभीर है।

यदि जो परिणाम आते है वह यह बताते हैं कि लक्षण किसी अन्य स्थिति के कारण हो सकते हैं, तो चिकित्सक अन्य परीक्षणों की सिफारिश करेगा।

सिग्मायोडोस्कोपी में एक आंतरिक रक्तस्राव का निदान करने के लिए एक छोटे कैमरे का उपयोग किया जाता है। यह छोटा फाइबर-ऑप्टिक कैमरा, जिसे सिग्मोइडोस्कोप कहा जाता है, एक छोटी ट्यूब में फिट होता है और फिर आपके मलाशय में प्रविष्ट होता है। इस परीक्षण से, आपके डॉक्टर को आपके मलाशय के अंदर का एक स्पष्ट दृष्टिकोण मिलता है ताकि वे रक्तस्रावी की जांच कर सकें।

बवासीर का इलाज  : Treatment of Piles in hindi/Treatment of Bawaseer in hindi/Treatment of Hemorrhoids in hindi

अधिकतर मामले में पाइल्स किसी भी इलाज के बिना अपने आप ठीक हो जाता है। पर कुछ इलाज असुविधा और खुजली को कम करने में हमारी मदद करते है  जो कई लोग पाइल्स के दौरान अनुभव करते है

पहले बवासीर के इलाज के लिए , ओपन सर्जरी ही एकमात्र विकल्प उपलब्ध था। लेकिन आज, न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रियाओं के साथ, पेशेंट की देखभाल के लिए डॉक्टरों के दृष्टिकोण में बदलाव आ गया है। बवासीर के इलाज के लिए नई प्रक्रिया को ‘Minimally Invasive Procedure for Haemorrhoids’ (MIPH)[बवासीर के लिए न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया(एमआईपीएच)]’  कहा जाता है, जिसे ‘स्टेपलर हैमरॉइडेक्टोमी’ भी कहा जाता है।का उपयोग किया जा रहा है 

जीवन शैली में परिवर्तन(Lifestyle changes) :

डॉक्टर शुरुवात में बवासीर को ठीक करने के लिए जीवन शैली में कुछ बदलाव करने के लिए कहते है 

  • भोजन(Food) : मल त्याग के समय तनाव होने के कारण बबसीर हो सकता है। अगर आपको बहुत अधिक कब्ज होता है तो यह तनाव का कारण हो सकता है अगर आप अपने खाने में बदलाव करते है तो यह मल को नियमित और नरम रखने में हमारी सहायता करता है हमें अपने भोजन में अधिक फाइबर वाले फ़ूड को शामिल करना चाहिए जैसे फल ,सब्जिया ,अनाज ,ओट्स 
  • डॉक्टर बवासीर वाले व्यक्ति को ज्यादा पानी पिने की सलाह दे सकता है। जिन्हे बवासीर होता है उन्हें ज्यादा मात्रा में कैफीन का सेवन नहीं करना चाहिए 
  • वजन : अगर आप वजन कम करते है तो इससे बवासीर की घटनाओं और गंभीरता कम हो सकती है 
  • पाइल्स को रोकने के लिए  और मल को पास करने के लिए डॉक्टर हमें व्यायाम करने की सलाह देते है जिससे हम तनाव से भी दूर रहते है पाइल्स के लिए व्यायाम करना बहुत लाभकारी होता है ये इसके लिए एक मुख्य उपचार भी है 
दवाएं(Medications)

बवासीर वाले व्यक्ति में लक्षणों को काम करने के लिए कई औषधीय विकल्प उपलब्ध हैं।

ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाएं: ये ओवर-द-काउंटर या ऑनलाइन उपलब्ध हैं। दवाओं में दर्द निवारक, मलहम, क्रीम और पैड शामिल हैं, और गुदा के चारों ओर लालिमा और सूजन को शांत करने में मदद कर सकते हैं।

ओटीसी उपचार बवासीर को ठीक नहीं करते हैं लेकिन लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। लगातार 7 दिनों से अधिक समय तक इनका उपयोग न करें, क्योंकि ये बाद में जलन और त्वचा के पतले होने का कारण बन सकते हैं। जब तक डॉक्टर द्वारा सलाह नहीं दी जाती है, तब तक एक ही समय में दो या अधिक दवाओं का उपयोग न करें।-Piles in Hindi

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स: यह दर्द को और सूजन को कम कर देते है 

लैक्सेटिव: यदि बवासीर से पीड़ित व्यक्ति कब्ज से पीड़ित हो तो डॉक्टर उसे लैक्सेटिव लिख सकता है। ये व्यक्ति को अधिक आसानी से मल पास करने में मदद करती हैं और निचले कोलन पर दबाव को कम करती है 

सर्जिकल विकल्प

बवासीर से पीड़ित लगभग १० में से १ व्यक्ति को सर्जरी की जरूरत होगी।

अधिकांश लोगों को बवासीर के इलाज के लिए ऑपरेशन की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन अगर आपका बवासीर अभी भी ठीक नहीं हुआ है  ,या आपके बवासीर में खून बह रहा है, तो यह आपके लिए एक उपयुक्त विकल्प हो सकता है। बवासीर के लिए विभिन्न प्रकार की सर्जरी होती है, जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं।

  • हेमराहाइडेक्टोमी – यह बवासीर को दूर करने के लिए एक शल्य प्रक्रिया है यदि वे समस्या पैदा कर रहे हैं।
  • स्टेपल्ड हेमराहाइडोफेक्सी – इस ऑपरेशन में, आपका सर्जन बवासीर के साथ ऊतक के क्षेत्र को आपके गुदा नलिका से ऊपर उठाएगा और इसे स्टेपल करेगा। आपके बवासीर तब आपके गुदा से बाहर नहीं निकलेंगे और सिकुड़ जाएंगे।
  • रक्तस्रावी धमनी बंधाव संचालन (HALO के रूप में जाना जाता है)। इस प्रक्रिया के दौरान, आपके बवासीर में रक्त की आपूर्ति को सीमित करने के लिए आपके गुदा नलिका में धमनियों को बंद किया जाता है। कभी-कभी एक अल्ट्रासाउंड जांच का उपयोग आपकी धमनियों को खोजने और प्रक्रिया के दौरान अपने सर्जन को मार्गदर्शन करने में मदद के लिए किया जाएगा। विशेषज्ञ अभी तक निश्चित नहीं हैं कि यह प्रक्रिया कितनी अच्छी है।
व्यायाम(Exercise)

व्यायाम करने से बवासीर के लक्षणों को आसानी से कम किया जा सकता है। आप इस तरह के व्यायाम कर सकते है 

  • तेज चलना(brisk walking)
  • गहरी साँस लेने के व्यायाम(deep breathing exercises)
  • स्ट्रेचिंग के व्यायाम(stretching exercises)
  • एरोबिक्स(aerobics)
  • केगेल व्यायाम हर रोज 3 बार करना चाहिए – जिसके लिए चरण हैं:
  1. अपनी पैल्विक मांसपेशियों को सिकोड़ना। जब आप पेशाब करते हैं तो यह आपके द्वारा की जाने वाली क्रिया के समान है।
  2. स्क्वीज़ करे और तीन सेकंड तक रोकें और फिर 3 सेकंड के लिए आराम करें।
  3. प्रत्येक सत्र का 10 बार व्यायाम दोहराएं
खूब पानी पिए(Drink Plenty of Water)

अगर आप बहुत अधिक पानी पीते है तो यह आपके मल को नरम रखने में आपकी मदद करता है आपको रोजाना बहुत अधिक पानी पीना चाहिए 

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ(Fibrous Foods)

अपने आहार में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करना बवासीर के लक्षणों में कमी लाता है एक स्वस्थ आहार में एक दिन में 20-30 ग्राम फाइबर की मात्रा होनी चाहिए।

टॉयलेट को ना रोके 

जब आपको टॉयलेट महसूस हो रही हैं, तो शौचालय की ओर भागे, सुविधाजनक समय की प्रतीक्षा न करें। विलंब या प्रतीक्षा करने से मलाशय की नसों पर अधिक दबाव पड़ता है, जो की कब्ज का कारण बन सकती और उसे खराब कर सकती  है जिससे रक्तस्रावी दर्द हो सकता  है। 

सेल्फ मेडिकेशन से बचें(Avoid Self Medication)

यदि आपको लगता है कि आपके पाइल्स के लक्षण बिगड़ रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें। काउंटर पर कुछ दवाएं आपको अस्थायी राहत दे सकती हैं लेकिन एक प्रभावी उपचार के लिए एक विशेषज्ञ चिकित्सक के पास जाना चाहिए ।

अत्यधिक दबाव न दें(Don’t Exert Pressure)

अपने मल त्याग को बल न दें, धक्का देने और तनाव से बवासीर में हालत और खराब हो सकती है।यदि आपको थोड़ी देर में राहत नहीं मिलती है तो आपको उठ जाए और बाद में थोड़ी देर बाद प्रयास करे 

बवासीर का घरेलू उपचार : home remedies for Piles in hindi/home remedies for Bawaseer in hindi/home remedies for Hemorrhoids in hindi

बवासीर, जिसे कभी-कभी पाइल्स भी कहा जाता है, आपकी गुदा और मलाशय में सूजन वाली नसें हैं। सामान्य लक्षणों में दर्द, खुजली और गुदा से खून बहना शामिल हो सकता है। बवासीर गुदा और मलाशय अंदर और बहार हो जाते है जिन्हे आंतरिक बवासीर और बाहरी बवासीर कहते है पाइल्स आजकल एक आम समस्या हो गई है हालांकि वे आम तौर पर अपने आप कुछ हफ्तों में ठीक हो जाती है ,पर कभी कभी वह हल्के से गंभीर तकलीफ का कारण भी बन सकते हैं। बवासीर के लिए सबसे अच्छा उपचार अक्सर ऐसी चीजें हैं जो आप घर पर कर सकते हैं।इन सुझावों में से कई आपको कब्ज से बचने में मदद करेंगे और इसे आसान बनाने में मदद करेंगे।और वह बवासीर को रोक भी सकते हैं।

1.विच हेज़ेल : Witch hazel

विच हेज़ल खुजली और दर्द दोनों को कम कर सकता है, यह बवासीर के दो मुख्य लक्षण है । यह पौधा एक प्राकृतिक सूजनरोधी है, इसलिए यह सूजन को भी कम कर सकता है। विच हेज़ल को तरल रूप में खरीदा जा सकता है और सीधे बवासीर पर लगाया जा सकता है।  यह एंटी-खुजली वाइप्स और साबुन जैसे उत्पादों में भी पाया जा सकता है।

नोट : विच हेज़ेल एक फूल का पौधा होता है जो की कई सारे औषधीय गुणों से भरपूर होता है इसका उपयोग दवाई के रूप में और दवाई बनाने में किया जाता है यह पौधा जापान ,चीन और अमेरिका में मिलता है 

2. एलोवेरा : Aloe veraएलोवेरा क्या है?उसके फायदे और नुकसान,एलोवेरा जेल,जूस बनाने की विधि

एलोवेरा जेल का इस्तेमाल बवासीर और त्वचा की समस्याओं के उपाय के लिए होता है इसके अंदर सूजनरोधी गुण होते हैं,जो जलन को कम करने में सहायता करते है यद्यपि बवासीर के लिए एलोवेरा जेल की प्रभावशीलता पर पर्याप्त ​​साक्ष्य नहीं हैं, नेशनल सेंटर फ़ॉर कॉम्प्लिमेंटरी एंड इंटीग्रेटेड हेल्थट्रेस्टेड सोर्स इसे सामयिक उपयोग के लिए बहुत सुरक्षित बताते हैं। आपको हमेशा ताज़ा एलोवेरा जेल का ही इस्तेमाल करना चाहिए | शुद्ध एलोवेरा जेल भी एक एलोवेरा पौधे की पत्तियों के अंदर से सीधे काटा जा सकता है। कुछ लोगो में एलोवेरा से एलर्जी पाई जाती है ये विशेषतर वो लोग हे जिन्हे लहसुन या प्याज से भी एलर्जी है बवासीर में उपचार के लिए, बाहरी बवासीर में जेल को शीर्ष पर लगा सकते है और 10-15 मिनट तक रहने देते हैं। जबकि आंतरिक बवासीर के लिए आप सुबह खाली पेट एलोवेरा जूस पी सकते हैंएलोवेरा जूस पाचन को ठीक करता है और कब्ज को कम करने में मदद करता है |

3.एप्सम नमक के साथ गर्म स्नान:Warm Bath With Epsom Salt

गर्म पानी से नहाने से बवासीर की जलन को आराम मिलता है आप गर्म स्नान करने के लिए सिट्ज़ बाथ का इस्तेमाल कर सकते है यह एक छोटा प्लास्टिक टब होता है जो की टॉयलेट सीट पर फिट बैठ जाता है या फिर आप लगभग 15 मिनट के लिए कुछ इंच गर्म पानी से भरे बाथटब में बैठ जाए । इसे दिन में दो या तीन बार करें और हर मल त्याग के बाद करें। इससे आपको आराम मिलेगा |यदि आप इस क्षेत्र को धोना चाहते हैं, तो भी साबुन का उपयोग करें और स्क्रब न करें।नहाने के पानी में एप्सम नमक मिलाने से गुदा की मांसपेशियों को आराम मिलेगा और खुजली से भी राहत मिलेगी।

4. ओवर-द-काउंटर मलहम

ऐसे मामलों में जहां साधारण उपचार पर्याप्त नहीं हैं या दर्द बहुत अधिक है, ओवर-द-काउंटर ड्रग्स और क्रीम कुछ राहत प्रदान कर सकते हैं।ओवर-द-काउंटर मलहम और क्रीम, जैसे प्रिपरेशन एच , लगभग हर दवा की दुकान में पाया जा सकता है और तत्काल राहत प्रदान कर सकता है।और कुछ भी सूजन को कम कर सकता हैं और रक्तस्राव को तेजी से ठीक करने में मदद कर सकता हैं।, हालांकि, त्वचा पर ऐसी क्रीम लगाना जिनमें हाइड्रोकार्टिसोन जैसी सामग्री मौजूद हो,उन्हें ज्यादा समय तक इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इसे एक बार में एक सप्ताह से अधिक समय तक इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। 

5. सूथिंग वाइप्स: Soothing wipes

मल त्याग के बाद टॉयलेट पेपर का उपयोग करने से मौजूदा बवासीर बढ़ सकता है। अधिक जलन पैदा किए बिना सूथिंग वाइप्स आपको साफ रखने में मदद कर सकते हैं। आप विच हेज़ल या एलोवेरा के सूथिंग वाइप्स उपयोग कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा चुने गए वाइप्स में अल्कोहल, इत्र, या अन्य चीज़े ना हो ये चीज़े पाइल्स के लक्षणों को आराम देने की वजह उनको बढ़ा सकती है -Piles in Hindi

6. कोल्ड कंप्रेस : Cold compresses

बर्फ के पैक या गुदा में आप सूजन से राहत पाने के लिए 15 मिनट के लिए ठंडा सेक लगा सकते है । बड़े, दर्दनाक बवासीर के लिए, यह एक बहुत ही अच्छा उपाय है। हमें कभी भी जमी हुई बर्फ को त्वचा पर नहीं लगाना चाहिए उसे किसी कपडे या टॉवेल में लपेटकर ही लगाना चाहिए |

7. मल सॉफ्टनर्स : Stool softeners

स्टूल सॉफ्टनर या फाइबर सप्लीमेंट कब्ज को ठीक करते है और उसको कम करते है यह स्टूल को नरम बनाने में सहायता करते है और इससे मॉल त्यागने में आसानी होती है और आपको दर्द नहीं होता है इसमें से कई स्टूल सॉफ्टनर पाउडर, कैप्सूल और तरल पदार्थ के रूप में मिलते है आप इनका इस्तेमाल दिन में एक से तीन बार कर सकते है -Piles in Hindi

8.ढीले, सूती कपड़े : Loose, cotton clothing

अल्ट्रा-ब्रेअथाबल कपास (विशेष रूप से सूती अंडरवियर) के साथ पॉलिएस्टर से बने तंग कपड़ों की अदला-बदली से गुदा क्षेत्र को साफ और सूखा रखने में मदद मिल सकती है। यह लक्षणों को कम करने में हमारी मदद करते है जलन को कम करने के लिए डिटर्जेंट या फैब्रिक सॉफ्टनर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए |

9.खुजाले नहीं : Don’t scratch

आपको त्वचा खुजालना नहीं चाहिए नहीं तो आप  त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं और जलन को बड़ा सकते हैं – और खुजली को बदतर बना सकते है 

10.टी ट्री आयल : Tea Tree Oil

टी ट्री आयल को मेलेलुका तेल भी कहा जाता है जो त्वचा की खुजली और खुजली के उपचार के लिए एक उत्कृष्ट प्राकृतिक उपचार है। चाय के पेड़ के तेल के शक्तिशाली रोगाणुरोधी गुण सूजन क्षेत्र को रोगाणु-मुक्त रखते हैं। यह एक मजबूत आवश्यक तेल है इस तेल को पतला होना चाहिए । प्रभावित क्षेत्र में हमें तेल का मिश्रण लगाना चाहिए , इसे 10 मिनट के लिए लगे रहने दें और सर्वोत्तम परिणाम के लिए इस प्रक्रिया को रोज तीन बार दोहराना चाहिए 

11.सप्लीमेंट्स : Supplements

इसबगोल की तरह मल सॉफ्टनर या फाइबर सप्लीमेंट कब्ज के इलाज में मदद कर सकते हैं,  मल को नरम कर सकते हैं और मल त्याग को दर्द रहित और आसान बना सकते हैं। ये पूरक पाउडर, कैप्सूल और तरल पदार्थ जैसे रूपों में आते हैं । जब आप ये सप्लीमेंट्स ले रहे हों तो बहुत सारा पानी पीना भी ज़रूरी है।

12.अरंडी का तेल : Castor Oil

अरंडी के तेल में एंटीफंगल, जीवाणुरोधी और सूजनरोधी जैसे शक्तिशाली उपचार गुण होते हैं। इस प्राकृतिक तेल में बवासीर के आकार को कम करने और दर्द को कम करने की अद्भुत क्षमता है। आप हर रात दूध में 3 मिलीलीटर अरंडी का तेल ले सकते हैं या बस बवासीर के लक्षणों से राहत पाने के लिए इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगा सकते हैं।-Piles in Hindi

13: त्रिफला चूर्ण : Triphala Powder

 जैसा कि हम जानते है , कब्ज बवासीर का एक प्रमुख कारण है, कब्ज को दूर करने के लिए त्रिफला चूर्ण नियमित रूप से लेना चाहिए और यह बवासीर को बढ़ने से रोकता है।

14: सलाद : Salad

 हर दिन नाश्ते के ठीक बाद हमें  खीरे,गाजर  जैसे सलाद का सेवन करना चाहिए । गाजर में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो बवासीर को ठीक करने में फायदेमंद होते हैं। उनमें विटामिन सी और के भी शामिल हैं, जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए जाने जाते हैं।

15.हींग : Asafoetida 

हमें अपने भोजन में हींग को शामिल करना चाहिए । हमें इसे रोज  सब्जियों में शामिल करना चाहिए -या एक गिलास पानी में घोलकर प्रतिदिन सेवन करना चाहिए । यह एक भारतीय मसाला है जिसका उपयोग खाना पकाने के साथ-साथ बीमारियों को ठीक करने में भी किया जाता है। यह पाचन में सुधार करता है और इसलिए बवासीर को ठीक करता है।-Piles in Hindi

कुछ और टिप्स आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को हेल्थी और आसान बनाएगे

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 351

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top