Omez D Tablet in hindi

Omez D Tablet in hindi : ओमेज़ डी टैबलेट की जानकारी फायदे,उपयोग और नुकसान

ओमेज़ डी टैबलेट की जानकारी: Omez D Tablet Information

  • यह एक ऐसी गोली है, जो आमतौर पर गैस और ऐसिडीटी के ख़िलाफ़ उपयोग की जाती है।
  • इस दवा का तब उपयोग किया जाता है, जब पेट में ऐसिडीटी , पेट दर्द, दिल में जलन, भाटपा रोग जिसे अंग्रेज़ी में  ‘गस्त्रोइसोफ़ग़ल रेफलक्ष डिज़ीज़’ कहते हैं, गैस, मधुमेह के गस्ट्रोपारेसिस, पेट या आंत के अल्सर, मत्तलि, उल्टी इत्यादि जैसे लक्षण देखे जाते हैं।
  • इसको तब भी उपयोग में लाया जाता है, जब फ़ूड पाइप या खाद्य नलिका की बीमारी वाली बीमारियाँ होती हैं। उसके जैसे और भी समस्याओं के इलाज में उसकी सलाह दी जाती है।

ओमेज़ D का बाज़ार में निर्माता, उसकी संरचना और क़ीमत:

ओमेज़ D का निर्माण:

ओमेज D टैब्लेट को ‘डॉक्टर रेडी लैब्रटॉरीज़ प्राइवट लिमिटेड’ निर्माण करते हैं, और यही उसे बेचते हैं। -Omez D Tablet in hindi

ओमेज़ D की संरचना:
  • इस दवा की रासायनिक संरचना, ‘ओमेपराजोल  होती है।
  • यह गोली  आपको पंद्रह टैब्लेट के पत्ते, या स्ट्रिप  में मिल जाती है।
ओमेज़ D की क़ीमत 

इसके एक स्ट्रिप की MRP होती है : 127.50 रुपये।

आइए इस लेख के माध्यम से हम ये जानते हैं, कि इस टैब्लेट के क्या-क्या फ़ायदे और नुक़सान होते हैं। इसके साथ हम यह भी जानेंगे कि इसका उपयोग कैसे करते हैं और इसकी खुराक क्या होती है।

ओमेज़ डी टैबलेट के फ़ायदे और उपयोग: Benefits and uses of Omez D Tablet in hindi

  • जब भी कोई इंसान गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal Reflux Disease), जिसे आम भाषा में भाटापा कहते हैं, तो यह दवा उसे दी जाती है। इस रोग में पेट में अम्ल और अन्य सामग्री ज़्यादा बनने लगता है, और खाद्य या फ़ूड पाइप में समस्याएँ पैदा होने लगती हैं।
  • दूसरा  रोग, जिसमें इस दवा का इस्तेमाल होता है, वो होती है: ‘ज़ोलिंजर-एलिसन सिंड्रोम’ (Zollinger-Ellison Syndrome)। इस रोग में जो छोटी आंत है, उसके ऊपरी हिस्से में ट्यूमर बनने लगता है, और पेट में कुछ अधिक ही एसिड बनने लगता है। इन सब से लड़ने के लिए ओमेज़ की बीस मिलीग्राम कप्सूल का इस्तेमाल होता है, और ये इस रोग का इलाज  होता है।
  • तीसरा रोग जिसके उपचार के लिए इस दवा का इस्तेमाल होता है, वो होता है, डूआडनल अल्सर (Duodenal Ulcer)। इस रोग में, जो छोटी आंत होती है, उसकी परत पर, खुले घाव आने लगते हैं और उसी अवस्था को  ‘डूआडनल अल्सर’ कहते हैं।
  • ओमेज़ 20 एमजी कैप्सूल (Omez 20 MG Capsule), Duodenal अल्सर  के इलाज में इस्तेमाल की जाता है।
  • अगली बीमारी, जिसमें इस गोली का उपयोग किया जाता है, वह होता है हेलिकोबैक्टर पाइलोरी संक्रमण (Helicobacter Pylori Infection)। ओमेज़ 20 एमजी कैप्सूल (Omez 20 MG Capsule) , यह गोली पलमोनरी इन्फ़ेक्शन के उपचार में इस टैब्लेट का उपयोग  किया जाता है।
  • इरोसिव एसोफैगिटिस (Erosive Esophagitis) नाम का एक रोग होता है, जिसमें खाद्य पाइप में सूजन होती है। इसके इलाज के लिए ओमेज़ 20 एमजी कैप्सूल (Omez 20 MG Capsule) का इस्तेमाल किया जाता है।

जैसा कि आप जानते ही हैं, की ओमेज़ डी टैबलेट का उपयोग किन-किन रोगों के बचाव के लिए होता है। पर उसके बाद भी, हम यहाँ एक सूची दे रहे हैं, उन सभी बीमारियों और  दिक्कतों की, जिनके उपचार में यह सक्रिय रहता है:

  •  जी मचलाना
  • सीने में जलन होना
  • मतली या उलटी आना
  • Helicobacter pylori infection – हेलिकोबैक्टर पिलोरी इन्फ़ेक्शन 
  • पेट में सूजन आना 
  • भाटपा रोग – ‘गस्त्रोइसोफ़ग़ल रेफलक्ष डिज़ीज़’
  • पेट में गैस बनना 
  • हर्निया
  • खट्टी डकार आना 
  • Erosive esophagitis – इरोसिव एसोफैगिटिस
  • गले में छाले आना 
  • गर्भावस्था में पेट दर्द
  • Erosive esophagitis – इरोसिव एसोफैगिटिस
  • खाने की पाइजरिंग
  • पाचन के तत्र
  • पेट में अल्सर होना 
  • अम्ल या एसिडिटी
  • बदहजमी की दिक्कत 
  • पेट में दर्द
  • Zollinger-Ellison syndrome – जोलिंगर एलिसन सिंड्रोम

ओमेज़ डी टैबलेट के दुष्प्रभाव या नुक़सान  : Side Effects of Omez D Tablet in Hindi

सामान्य रूप से, ओमेज़ डी गोली के काफ़ी ज़्यादा साइड-इफ़ेक्ट होते हैं, और ये दुष्प्रभाव ज़्यादा संभव भी हैं, पर यह  ज़रूरी नहीं की ये हमेशा हो ही। 

अगर आपको नीचे दिए गए किसी भी दुष्प्रभाव का प्रभाव भी पता चले, और ये समाप्त नहीं होते हैं , तो आप तुरंत ही, अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह लें। यह रहे वो दुष्प्रभाव:

  • सिर में दर्द
  • क़ब्ज़ 
  • दस्त
  • चक्कर आना
  • हड्डियों या जोड़ों का दर्द 
  • स्किन या त्वचा में खुजली
  • सीने में दर्द 
  • त्वचा पर लाल या रंगीन चकत्ते, या रेशस 
  • बेचैनी महसूस होना 
  • पेट दर्द होना 
  • हड्डी टूटना 

अगर आपको इसके उपयोग के दौरान, ऐसे किसी भी ऐसे साइड-इफ़ेक्ट के बारे में पता चलता है, जो कि ऊपर दी गयी, लिस्ट में नहीं है, तो तुरंत ही अपने डॉक्टर को सम्पर्क करें, और उसके परमसरक का पालन करें। उन्हें अपने नए दुशप्रभावों के बारे में अवश्य बताएँ।

ओमेज़ डी टैबलेट से सावधानियां  : Precautions of Omez D Tablet in Hindi

आप जब भी ओमेज़ डी टैबलेट लेने की सोचें, तो सबसे पहले, अपने डॉक्टर को अपनी सारी पुरानी दवाइयाँ, सारी ऐलर्जी और पुराने रोग अवश्य बताएँ। आप हमेशा अपने डॉक्टर के बताने के अनुसार ही दवाइयाँ का सेवन करें। इन सब तकलीफ़ों वाले ध्यान दें:

  • गुर्दे के रोग से पीड़ित मरीज़।
  • एलर्जी की समस्या होने वाले रोगी।
  • बच्चे, इस दवा का का उपयोग न करें।
  • भूली हुई दवाई के लिए, ज़्यादा दवाई का इस्तेमाल नहीं करें।
  • विटामिन बी 12 की कमी वाले मरीज, इस गोली के इस्तेमाल से सावधानी रखे।
  • आंतो में रुकावट हों तो आप ध्यान दें।
  • मशीनरी और गाड़ी चलाने या उपयोग करने से आप बचें।

ओमेज़ डी टैबलेट को कैसे  एवं करें या खाएँ:

  • ओमेज़ डी टैबलेट या दवा, बाजार में एक गोली या कैप्सूल के रूप में ही मिलती  है।
  • आप जब भी इस गोली  को लेना शुरू करने जा रहे हों, तो अपने चिकित्सक से ही, परामर्श करके अपनी खुराक तय करें। जितनी खुराक ताव की गयी है, ना उससे कम, और ना सी उससे अधिक  मात्रा का उपयोग हो।
  • इस दवा को खली पेट ही लें। इसके इस्तेमाल में और भोजन में, कम से कम आधे घंटे का अंतर हो। इसे भोजन से पहले ही लें।
  • इस गोली को बाक़ी दवाओं की तरह, ना तो चबाएँ, ना ही तोड़ें, इसे सिर्फ़ निगलें।
  • अगर आपके लक्षण ठीक  हो गए हैं, तो आप चिकित्सक के माना करने तक, इस दवा का सेवन बंद ना करें।

ओमेज़ डी टैबलेट की सामान्य खुराक : Omez D Common Dosage in Hindi

  • इस दवा के डोसिज या खुराक, रोगी की हालत, रोगी की उम्र और उस पर दवा की शुरुआती प्रतिक्रिया के साथ बदल जाती है।
  • जैसा कि आपके चिकित्सक आपको कहेंगे ही, आपको इस दवा को खाने से, कम से कम,  आधे घंटे पहले खाना है।
  • आप इस बात का ध्यान दें, कि ओमेज़ डी गोली का उपयोग, 14 दिन से ज़्यादा समय होते ही, उसे लेना बंद करें और डॉक्टर को बताएँ।
  • लक्षणों में यदि सुधार आता है, या वो बदतर होने लगते हैं, जैसी भी स्थिति हो, आप पाने चिकित्सक की सलाह लें।

ओमेज़ डी टैबलेट के साथ के इंटरैक्शन:

  • जब भी आप , ओमेज़-D का किसी और रसायन या दवा के साथ उपयोग करें, तो इस बात का ध्यान दें, की उसमें नीचे दिए हुए तत्व या दवाएँ ना हों। तो एक बार आप इस सामग्री का ज़रूर जाँचे।
  • इन सब दवाओं के साथ, जब इस दवा का इंटरैक्शन या पारस्परिक क्रिया शुरू होती है, जो कि शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है। यह रही वो दवाइयाँ:
  • Amidorane – अमिडोरेन 
  • Amoxicillin-अमोक्सिल्लिन
  • Amprenavir- अमप्रेनविर 
  • Antacids- ऐंतसिडस
  • Aprepitant- अपरेपिटैंट 
  • Atazanavir- अटजनविर 
  • Atropine-अट्रोपाइन 
  • Cilostazol-सिलोसताजोल 
  • Clarithromycin- क्लारीथ्रोमयसिन 
  • Clopidogrel- कलोपीडोग्रेल 

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 319

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top