Nutmeg in Hindi

Nutmeg in Hindi : जायफल क्या है? इसके फायदे,उपयोग और नुकसान

जायफल की जानकारी: Nutmeg information

Table of Contents HIDE
  • यदि हम ‘आहार’ के विषय में सोचें भी, तो यह ख़्याल हमेशा आता है, की  हिंदुस्तानी ज़ायक़े और खाने का, मुश्किल से ही, कोई स्पर्धा भी कर सकता है। विभिन्न प्रकार के मसाले, जो ना केवल खाने का स्वाद बढ़ाते हैं, पर यह हमारे सेहत को भी बनाकर रखते हैं। ऐसी विशेषताएँ का, दुनियाभर में कोई मेल ही नही है।
  • उन्ही मसलों में से एक, प्रसिद्ध मसाला होता है, ‘जायफल’। यह भारत के क़रीब-क़रीब, हर रसोई में मिलता ही है। बाक़ी मसलों की तरह, यह भी सिर्फ़, ना भोजन को ज़्यादा ज़ायक़ेदार बनाता है, पर स्वास्थ्य के अनुसार भी, यदि देखा जाए, तो या बहुत सारी ख़ूबियों वाला होता है।
  • आज इस आर्टिकल के माध्यम से, हम आपको बताएँगे, जायफल के क्या-क्या लाभ, या  उपयोग और दुष्प्रभाव होते हैं। हम आपको इस लेख में ही, सही विज्ञान के सबूतों के साथ, इस व्यंजन के फ़ायदे और नुक़सानों की सूचियाँ भी देंगे। 
  • इसके साथ-साथ, हम आपको जायफल के इस्तेमाल के तरीक़े भी बताएँगे। यहाँ पर आप इस बात का ख़याल रखे, की जायफल किसी भी रोग का इलाज  नही कर पाता, पर इसके इस्तेमाल से, सिर्फ़  स्वास्थ्य की दिक्कतों से, बचाव कर सकता है। यानी की, यह इलाज में तो नही, पर सिर्फ़ एहतियात की तरह ही उपयोग में लाया जा सकता है।-Nutmeg in Hindi

क्या होता है जायफल? : What is Nutmeg in Hindi

  • यह मसाला विश्वभर में, अपने ज़ायक़े के लिए उपयोग में आने वाला, काफ़ी प्रसिद्ध मसाला है। इसका इस्तेमाल भी, उसी कारण होता है। 
  • यह मसाला, वैसे जाययफल के पेड़ (विज्ञानिक नाम: मिरिस्टिका फ़्रेंग्रेस) से निकलता है। देखा जाए तो जायफल के वृक्ष से, दो मसाले उत्पन्न होते हैं, जो होते हैं ‘जायफल’ और ‘जावित्री’।
  • मिरिस्टिका के, यानी की जायफल के पेड़ के फल, के बीज, का नाम होता है ‘जायफल’। आज हम इस लेख के माध्यम से,मुख्यतः जायफल के बारे में और भी बहुत कुछ बताएँगे। 
  • NCBI (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन) की वेब्सायट पर, प्रकाशित अध्ययनों के मुताबिक़, इस मसाले का इस्तेमाल, सेहत के लाभों के लिए, कई वर्षों से किया जरहा है। यह काफ़ी सारे न्यूट्रीएंट्स या पोषक तत्वों से भरा हुआ होता है। इसमें तीन प्रमुख असर पाए जाते हैं, वो होते हैं: एंटीइन्फ्लेमेटरी, एंटीमाइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट।

जायफल के फायदे – Benefits of Nutmeg in Hindi

1.उनींदापन की समस्या से छुटकारा:

जायफल का इस्तेमाल, नींद नही आनी की दिक्कत से, हमें राहत दिलाने में, सहायता करता है। एक अध्यययन से, हमें इसका प्रमाण मिलता है, की यदि दो सप्ताह तक, जायफल के चूरन का उपयोग किया जाए, तो वह हमें अनिद्रा से आराम दिलवा सकता है। पर उसी शोध में, यह भी बताया गया है, कि इसे बहुत लम्बे वक़्त तक ना लें। हमें ऐसा इस्तेमाल करने से मना किया जाता है।साथ ही, जिन रोगियों को गैस्ट्रिक की जलन है, वो इसका इस्तेमाल ना करें। यह चीजों को बिगाड़ सकता है। -Nutmeg in Hindi

 2.पाचन प्रणाली सुधारने में जायफल खाने के फायदे:
  • जायफल का उपयोग, पाचन प्रणाली को ठीक करने के लिए भी, किया जा सकता है। NCBI की एक वेब्सायट पर छपे एक अध्ययन में, यह बताया गया है , कि आर्युवेद में जायफल का इस्तेमाल, कई दिक्कतों से राहत दिलवाने के लिए किया जाता है। इन समस्याओं में, खराब पाचन प्रणाली को सुधारना भी एक बड़ी समस्या होती है। 
  • इस सबके साथ, यह शरीर से मल निकालने  की प्रतिक्रिया को भी, आराम देह बना देता है। इन सब के साथ, एक और अध्ययन में, गैस, दस्त और बदहज़मी  के लिए भी,  जायफल के इस्तेमाल  की पूरी जानकारी मिलती है।अपितु, जायफल के कौनसे औषधीय गुण, इस फ़ायदे के पीछे काम करते हैं, उसका पता अभी भी ठीक से पता नाही चला है। उसको जानना अभी भी जरुरी है।-Nutmeg in Hindi
3.दर्द को कम करने के लिए, एक औषधि।
4.जायफल के सेवन से, आर्थरैटिस या गठिया को दूर किया जाता है।
5.जायफल का, कैंसर से बचाव में के लिए भी एक नामी फ़ायदा होता है।
6.जायफल का मधुमेह में उपयोग :

जायफल के अर्क में, एंटीडायबिटिक ख़ूबियाँ पाई जाती हैं। यह ख़ूबियाँ, ख़ून में मौजूद, ग्लूकोज के स्तर को, बढ़ाने से लेकर, रोकने में भी मदद कर सकते हैं। 

7.जायफल  के दांतों के लिए भी कुछ प्रसिद्ध लाभ:
  • जायफल में अर्क में मौजूद, ‘मैकलिग्नन’ नामक तत्व में एंटीकैरोजेनिक (दांतों को टूटने से बचाने वाला) प्रभाव पाया जाता है। 
  • यह दांतों को ‘स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स’  नाम के, ओरल बैक्टीरिया से बचाव देता है। यदि इन बुनियादों पर देखा जाए,  तो कहा जा सकता है, कि सेहत को बिल्कुल सही रखने के लिए, जायफल का इस्तेमाल फ़ायदेमंद होता है।
 8.मस्तिष्क के लिए जायफल खाने के लाभ:  
  • जो जायफल होता है, वो दिमाग़ के लिए भी बहुत लाभदायक होता है। हम इसे ज़्यादा जान पाए हैं, एक अध्ययन से।  हमारी केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, के रीऐक्शन  से, जायफल के इस्तेमाल का ज़िक्र मिलता है। केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (CNS) में मस्तिष्क और रीढ़, यानी की मेरु दंड भी शामिल होते हैं । 
  • अवसाद या माइग्रेन और चिंता दूर करने में जायफल के फ़ायदे होते हैं
9. रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

 रोग-प्रतिरोधक क्षमता या इम्यूनिटी के लिए भी जायफल का इस्तेमाल होता है।

10.कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाए

कोलेस्ट्रॉल का स्तर निरीक्षित करने के लिए, जायफल का इस्तेमाल होता है।

11.वजन काम करने में लाभदायक – वजन घटाने के घरेलु नुश्खे

वजन कम करने के लिए भी, जायफल के का इस्तेमाल होता है: आज, विश्व की एक बड़ी आबादी, मोटापे की दिक्कत से परेशान हैं। यहाँ पर,  मोटापे को या ओबीसिटी को  संचालित करने के लिए, एक घरेलू नुस्खे का पालन किया जा सकता है। वह नुस्ख़ा है, जायफल का इस्तेमाल करना। असल में, जायफल में एक ख़ूबी होती है, जो कि मोटापा बढ़ने से रोकती है। इसको ‘एंटी-ऑबेसिटी’ ख़ूबी भी कहा जाता है, और यह काफ़ी सहायता प्रदान करती है।

 12.मुंहासों को न्यूनतम या ग़ायब करने में, जायफल का एक गुण होता है:

इस मसाले में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी ख़ूबियाँ होती हैं । इसमें मौजूद  एंटीबैक्टीरियल ख़ूबियाँ, बैक्टीरिया के कारण, होने वाले पिंपल्स से, लड़ने का काम कर सकते हैं। यहीं एंटी-इंफ्लेमेटरी ख़ूबियाँ ,मुंहासों की सूजन को, कम करने में सहायता कर सकते हैं। 

जायफल के दुष्प्रभाव– Side Effects of Nutmeg in Hindi

जायफल के फायदे के साथ-साथ, उसके कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं, जिनके  बारे में हम यहाँ नीचे दे रहे हैं –

क्योंकि जायफल की तासीर गर्म होती है, इसी की वजह से, इसका इस्तेमाल, गर्मियों में करना, एक दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है। पर अभी भी, इससे सम्बंधित, ऐसी कोई भी  सही शोध और प्रमाण मौजूद नहीं है।

जायफल का उपयोग, यदि आवश्यकता से अधिक किया जाए, तो यह सारी दिक्कतें हो सकती हैं: 

  • चक्कर या मत्तलि आना
  • दिल  की धड़कनें बढ़ जाना
  • जी घबरा जाना 
  • उल्टी 
  •  प्रेगनंट औरतों को जायफल का इस्तेमाल, चिकित्सक से सलाह लेने के पश्चात ही करना चाहिए। इससे इसका बहुत ज़्यादा सेवन, महिला और कोक  में पाले जाने वाले बच्चे हानि पहुंचा सकती है। अपितु, इसे लेकर अभी और अध्ययन की ज़रूरत है।
  • काफ़ी दफ़ा, जायफल को, ज़्यादा मात्रा में इस्तेमाल में लाने से,  उसी प्रकार  प्रभाव होने की सम्भावना हो सकती है, जैसा कि किसी नशीले या स्वापक  पदार्थ के इस्तेमाल से होता है।
  • इससे ‘ड्राई माउथ’ या मुँह सूखने की दिक्कत भी हो सकती है।

जायफल का इस्तेमाल या उपयोग कैसे करें– How to Use Nutmeg in Hindi

यह रहे कुछ तरीक़े, जिससे आप जयफल का ख़ास इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • इसका तेल आराम से लगाया जा सकता है, जब भी आपको अपने  जोड़ों में पीड़ा हो।
  • आप, भोजन में मसाले के तौर पर, इसका इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • यदि आपको सर में दर्द और साँसों की बदबू से दिक्कत हैं, तो आप जायफल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस उपयोग के लिए, आपको एक बार अपने चिकित्सक से सलाह ज़रूर लेनी चाहिए!
  • अगर आप को रात को नींद नही आ रही, तो सोने से पहले, आप एक चुटकी जायफल के पाउडर को लें , और शहद में मिलाकर खा लें।
  • यदि आपको मुंहासों की दिक्कत है, तो जायफल पाउडर को शहद में अच्छे से घोलें। उसके बाद, एक पेस्ट को तैयार करके इसे चेहरे पर लगाएं। फिर इसे कुछ देर सूखने दें, और फिर, बाद में इसे साफ पानी से धो लें।
  • प्रेगनंट या गर्भवती  महिला को जायफल का उपयोग, उसके चिकित्सक से परामर्श करने के बाद ही करें, तो बेहतर होगा, क्योंकि इसका बहुत अधिक उपयोग, दोनो महिला, और गर्भ में पल रहे भ्रूण को, हानि पहुँचा सकता है। 

मगर इस तथ्य का भी, अभी तक कोई ठोस प्रमाण या शोध नही हो पाया है। कई दफ़ा, जायफल का उपयोग, ज़्यादा मात्रा में करने से, शरीर या दिमाग़ पर वैसा ही असर हो सकता है, जैसा किसी नशीले पदार्थ के इस्तेमाल से होता है। तो आप इस बात का ज़रूर ध्यान दें।

इससे मुँह के सूखने की, दिक्कत भी हो सकती है।

जायफल को कैसे चुनें और लंबे वक़्त तक सुरक्षित कैसे रखें?

जायफल को सही प्रकार से ऐसा चुनाव करना, की वह एक लम्बे वक़्त तक सुरक्षित रहे, काफ़ी आवश्यक होता है। इसके बारे में, हम आपको नीचे कुछ जानकारी दे रहे हैं, उस पर  आप ग़ौर फ़रमाएँ:

  •  बाजार में जायफल, दोनो- साबुत फल या बीज के रूप में और चूर्ण के फ़ॉर्म में मिलता है। इसको  सही तरीक़े से चुनना, आवश्यकता के हिसाब से किया जा सकता है।
  • यदि  आप चाहें , तो बाजार से साबुत जायफल खरीदें  और फिर घर लाकर ही, आप इसका पाउडर ख़ुद बना दें। यह प्रक्रिया, वैसे काफ़ी सुरक्षित होगी।
  • इसे आप या तो किराने की दुकान यानी की जनरल स्टोर, या फिर इंटर्नेट से ऑर्डर देकर खरीद सकते है।
  • यदि आप जायफल को, एक एयरटाइट डब्बे  में स्टोर करेंगे, तो यह एक लंबे वक़्त तक, सेफ़ रहेगा।
  • इस बात पर आप ध्यान दें, कि   जायफल या इसके पाउडर को, किसी सूखी स्थान  पर ही रखें, ताकि यह ख़ुद को गीलेपन से बचाकर रखे। तभी यह आपके लिए लाभदायक रहेगा।

  1. हम इस बात की आशा करते हैं, कि इस आर्डिकल को पढ़ने के पश्चात, अब आप ठीक प्रकार से, समझ गए होंगे कि जायफल खाने से क्या-क्या होता है। 
  2. इसके साथ, आप यह भी जान गए होंगे कि  इसको ज़्यादा मात्रा में इस्तेमाल करना, किस तरीक़े से हानिकारक हो सकता है।
  3. जब इस लेख को एक और नज़रिए से पढ़ा जाए,  तो हमने आपको, इसके फ़ायदे-संबंधी जानकारी भी दे दी है। आप जब चाहें, तो जायफल के लाभ उठाने के लिए, अपने चिकित्सक की सलाह पर, इसे आप अपनी लाइफ़्स्टायल का भाग बना सकते हैं।

कुछ और जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 439

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top