Norflox 400 mg tablet in hindi

Norflox 400 mg tablet in hindi:नॉरफ्लोक्स 400 mg टेबलेट के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

नॉरफ्लोक्स 400 mg टेबलेट क्या हैं( What is Norflox 400 mg tablet )

नॉरफ्लोक्स टेबलेट(Norflox 400 mg tablet in hindi) मुख्य रूप से दो पदार्थों का संयोजन हैं जिनका नाम हैं कंपाउंड नोरफ्लॉक्सासिन और लैक्टिक एसिड बेसिलस। ये दवा डॉक्टर के सलाह देने के बाद ही ली जानी चाहिए, बाजार में भी ये दवा आपको डॉक्टर का पर्चा दिखाने के बाद ही ये दवा दी जाएगी। सामान्यतः इस दवाई का उपयोग मूत्र मार्ग में होने वाले संक्रमण (यूटीआई) के इलाज के लिए किया जाता हैं, मूत्र मार्ग में होने वाले संक्रमण के अलावा इस दवा का इस्तेमाल यौन संचारित रोग, पेट में इन्फेक्शन और उसके अलावा अन्य संक्रमण के लिए भी किया जाता हैं। 

अगर आप पहले से किसी और दवा का सेवन कर रहें हैं तो इस दवा को शुरू करने से पहले डॉक्टर को इसके बारें में जरूर बताइये, इस दवा के लंबे समय तक सेवन से भी बचना चहिए क्योंकि अधिक समय तक दवा के उपयोग से शरीर पर इसके कुछ दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं जैसेकि अनिद्रा की समस्या, धड़कन बढ़ जाना, मांशपेशियों में कमजोरी की शिकायत, और घबराहट महसूस होना इत्यादि। इस दवा के सेवन के बाद व्यक्ति को ज्यादा शारीरिक परिश्रम नहीं करना चाहिए और धूप में भी नहीं जाना चाहिए। अगर आपको दवा खाने के बाद कोई भी दिक्कत महसूस होती हैं तो तुरतं डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इस दवाई का सेवन अन्य कुछ दवाइयों के साथ करना नुकसानदेह हो सकता हैं जैसे टैक्रिन, ग्लाइकार्बाइड, प्रेडनिसोन, प्रोबेनेसिड, डेक्सामेथासोन इत्यादि।

नॉरफ्लोक्स किन बीमारियों में लेने की सलाह दी जाती हैं
(Which diseases are recommended to take Norflox 400 mg tablet in hindi)

इस दवा को डॉक्टर आपकी पूरी तरह से जांच करने के बाद और आप किन दवाइयों का वर्तमान में सेवन कर रहें हैं इसको पूरी तरह से समझने के बाद ही दवा लेने को कहते हैं। मुख्य रूप से डॉक्टर आपको यह दवा निम्नलिखित बीमारियों में लेने की सलाह देते हैं

  • बैक्टीरियल इंफेक्शन- जब किसी भी व्यक्ति के शरीर में बैक्टीरिया उसके शरीर में मौजूद कोशिकाओं से ज्यादा ही जाते हैं तब व्यक्ति के शरीर मे बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो जाता हैं, इस बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर ये दवा व्यक्ति को लेने के लिए कह सकते हैं।
  • यूरिन इंफेक्शन- मूत्र मार्ग में संक्रमण या अन्य किसी भी यूरिन इंफेक्शन के इलाज के लिए ये दवा ली जाती हैं।
  • पेट मे इंफेक्शन– पेट में किसी भी तरह के इंफेक्शन के लिए भी डॉक्टर ये दवाई खाने की सलाह दे सकते हैं।
  • प्रोस्टेटाइटिस- प्रोस्टेट ग्रन्थि में सूजन या जलन को प्रोस्टेटाइटिस कहा जाता हैं, इस बीमारी में मूत्र करते समय ज्यादा दिक्कत पेश आती हैं इस बीमारी से बचाव के लिए भी नॉरफ्लोक्स दी जाती हैं।
  • सुजाक- सुजाक की बीमारी में भी नॉरफ्लोक्स खाने की सलाह दी जाती हैं।

खुराक (Dose of Norflox 400 mg tablet in hindi)

किसी भी दवाई को एक निश्चित मात्रा में खाया जाता हैं दवाई की खुराक व्यक्ति की उम्र और उसके रोग की स्थिति के अनुसार दी जाती हैं किसी भी रोगी को नॉरफ्लोक्स देने से पहले चिकित्सक रोगी की मेडिकल हिस्ट्री जांचते हैं और उसके बाद उस व्यक्ति पर किसी भी दवा का कोई दुष्प्रभाव पड़ता हैं या नहीं, ये जानने के बाद ही दवा खाने को कहा जाता हैं। 

कभी भी बिना डॉक्टर की सलाह के ना तो ये दवाई शुरू करें और ना ही बंद करे, अगर आप इस बीमारी की कोई खुराक लेना भूल जाते हैं तो अगली खुराक आप निर्धारित मात्रा में ही लें और ऐसा कभी भी ना करें कि आप उस खुराक की मात्रा को ज्यादा कर दें। अगर आप गलती से इस दवाई की ज्यादा मात्रा ले लें तो तुरतं डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

नॉरफ्लोक्स का असर (Effect of Norflox)

  • इस दवा को लेने के बाद रोगी को इस दवा का असर 10 से 12 घंटे तक रहता हैं, कई परिस्थितियों में ये व्यक्ति की शारीरिक क्षमता पर भी निर्भर करता हैं। 
  • ये दवा रोगी के लेने के एक घंटे के बाद ही असर दिखाना शुरू कर देती हैं।
  • ये दवा गर्भवती महिला या फिर जो महिला भविष्य में गर्भवती होना चाहती हैं उन्हें इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • इस दवा को खाने से व्यक्ति को उसकी लत नहीं पड़ती इसके पीछे मुख्य वजह ये हैं कि इस दवा में किसी तरह का नशा नहीं होता।
  • स्तनपान कराने वाली महिला को इस दवा का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए, इसका कारण ये हैं कि जब दवाई लेने के बाद जब महिला अपने बच्चे को स्तनपान करवाएगी तो उस बच्चे पर भी उस दवा का असर हो जाएगा। वैसे भी 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को ये दवा लेने की सलाह नहीं दी जाती।
  • नॉरफ्लोक्स कभी भी शराब पीने के बाद नहीं लेनी चाहिए क्योंकि शराब और नॉरफ्लोक्स का एक साथ सेवन सेहत के लिए जानलेवा साबित हो सकता हैं।
  • इस दवा को लेने के बाद आप किसी भी वाहन को चलाने की स्थिति में नहीं होंगे, क्योंकि दवा के सेवन के बाद आपको सुस्ती और नीदं आने लगती हैं।

नॉरफ्लोक्स लेने के दुष्प्रभाव (Side-Effects of Norflox)

  • चक्कर आना- इस दवाई का सबसे मुख्य दुष्प्रभाव व्यक्ति को चक्कर आने की दिक्कत होने लगती हैं।
  • कमजोरी- रोगी को नॉरफ्लोक्स लेने के बाद कमजोरी महसूस होने लगती हैं।
  • पीठ में दर्द रहना- इस दवा को लेने का एक और मुख्य दुष्प्रभाव ये हैं कि इससे व्यक्ति की पीठ में दर्द रहने लगता हैं।
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द– नॉरफ्लोक्स लेने वाले व्यक्ति को पेट मे निचले हिस्से में दर्द रहने लगता हैं।
  • जी मिचलाना या उल्टी की शिकायत- इस दवा के सेवन से एक दुष्प्रभाव ये भी होता हैं कि व्यक्ति को उल्टी या जी मिचलाने की समस्या भी हो सकती हैं।
  • दस्त- नॉरफ्लोक्स के सेवन से रोगी को दस्त की परेशानी भी होने लगती हैं।

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 395

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top