Hichki

Hichki : हिचकी ? हिचकी क्या है उसके कारण और उपाय – Hiccups in Hindi

हिचकी(Hichki ) आना वैसे तो बहुत ही आम समस्या होती है आमतौर पर हिचकि किसी को भी आ सकती है | लेकिन बहुत बार होता है की हिचकियां बहुत लम्बे समय तक परेशान करती रहती है। कुछ लोगो के साथ तो ऐसा होता है  की एक बार हिचकियां आना चालू हुई तो बंद होने का नाम ही नहीं लेती है । यह एक तरह की बीमारी भी होती है। हमारे बुजुर्गो के मुँह से आपने सुना होगा की अगर आपको हिचकी आ रही है, तो मतलब कोई याद कर रहा है इसलिए हिचकी आ रही है , तो आपको पानी पी लेना चाहिए । हिचकी आने के बहुत सारे कारण होते है अगर आपकी हिचकी जो है वह सामान्य उपायों के बाद भी ठीक नहीं हो पा रही है तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखा देना चाहिए । बहुत बार ऐसा होता है की आपको हिचकी परेशान कर रही है पर हर बार हिचकी रोक पाना मुश्किल होता है । हिचकी किसी को भी आ सकती है आप चाहे बच्चे हो या बूढ़े। -Hiccups in Hindi

अब में आपको बताने जा रही हु की हिचकी आपको क्यों आती है 

  • बहुत बार ऐसा होता है की हम जरुरत से ज्यादा ही मसालेदार खाना खा लेते है उससे हिचकी आने लगती है। 
  • जल्दबाजी में खाना खाने से भी हिचकी आने लगती है। 
  • बहुत अधिक मात्रा में पेय पदार्थो का सेवन करना 
  • बहुत अधिक मात्रा में खाना खाने से
  • किसी भी  प्रकार का उत्साह होने से 
  • किसी भी  प्रकार का स्ट्रेस होने से 
  • सिगरेट पिने से 
  • रूम के तापमान मे अचानक बदलाव हो जाने से 

इन सभी कारण से आपको हिचकी आ सकती है  हिचकी आने की जो मुख्य वजह होती है वह खुराक के कणो का श्रवसन नलिका मे फस जाना होती है। टाइफॉइड, हेजा, जुकाम और उदर रोगो के कारण भी हमे हिचकी आने की समस्या हो सकती है। अगर आपको लगातार हिचकी आ रही है तो आपको सांस लेने मे भी बहुत तकलीफ हो सकती है।

हिचकी आने के कारण- Hichki kyo aati Hain in Hindi / causes of hiccups in hindi

  • अचानक तापमान मे अगर परिवर्तन हो जाता है तो उससे भी हिचकी आने लगती है।
  • अगर आप गलत तरीके से खाना कहते होते है तो भी आपको हिचकी आ जाती है 
  • अगर आप बहुत ज्यादा शराब का सेवन करे है तो भी आपको हिचकी आने लगती है 
  • अगर आपके गले मे खराश या सूजन हो गई हे तो भी हिचकी आने लगती है।

हिचकी रोकने के उपाय – Hichki ke ilag

ठंडा पानी:-जब भी आपको हिचकी आने लग जाए तो तुरंत आपको ठंडा पानी पी लेना चाहिए । अगर इससे भी आपकी हिचकी नहीं रूकती हे तो बर्फ के टुकड़े को मुँह मे रख लेना चाहिए और इसे धीरे-धीरे चूस लेना चाहिए। -Hichki

शक्कर:- हिचकी आने पर थोड़ी सी शक्कर को जीभ के नीचे रख लेना चाहिए । आप शक्कर को मक्खन के साथ भी खा सकते है इससे आपकी हिचकी रुक जाती है। 

दालचीनी :- अगर आपको हिचकी आती है तो आप दालचीनी के टुकड़े को मुँह मे रख लेते है तो इससे हिचकियां आनी बंद हो जाती है।  दालचीनी की विस्तृत जानकारी 

काली मिर्च :- जब भी आपको हिचकी आती है तो आप कालीमिर्च का चूर्ण बनाकर शहद के साथ खाले इससे आपकी हिचकिया तुरंत आना बंद हो जाएगी। 

प्याज ,लहसुन या गाजर :- प्याज या लहसुन के टुकड़े को आप सूंघ ले इससे आपको हिचकी में राहत मिल जाएगी। इसके अलावा आप गाजर के रस को हिचकी रोकने के भी सुघ सकते हो।

हिंग :- अगर आप हिंग को गुड़ या केले मे मिला देते है तो उससे भी हिचकी आना रुक जाती है।

मूली :-  3-4  मूली के ताज़े हरे पत्ते खा लेने से भी हिचकी आना रुक जाती है 

सोंठ :- पिसा हुआ सोंठ को दूध मे उबालकर पिले अगर आपको बहुत ज्यादा हिचकी आ रही है और आप काफी परेशांन हे तो आपको रहत मिलेगी। 

अदरक:- अगर आपको हिचकी आ रही हे तो आप ताजा अदरक लें और उसके छोटे -छोटे टुकड़े करकर उसको चूसे। आपकी हिचकी कितनी भी नयी या कितनी भी पुरानी हो रुक ही जाएगी।

राई:- 10 ग्राम राई को 250 ग्राम पानी में मिलाकार बहुत ही अच्छे से उबालकर छान लें और आप उसको पी लें इससे आपकी हिचकी रुक जाएगी।

घरेलु उपाय हिचकी रोकने के लिए- Gharelu nuskhe Hichki rohkne ke Liye in Hindi / Hiccups home remedies in Hindi

शहद- जब भी आपको मामूली हिचकी आ रही हे तो शहद मे थोड़ा सा प्याज का रस मिलाकर पिने से मामूली हिचकी आना बंद हो जाती है।

निम्बू- निम्बू के रस में , 1 एक चम्मच शहद और काला नमक मिला कर उसको  पिने से भी  हिचकी आना बंद हो जाती है।

कलौंजी– 3 ग्राम कलौंजी को पीस कर मख्खन मे मिलाकर खाने से भी हिचकी आना बंद हो जाती है।

यह सभी नुस्खे बहुत ही कारगर होते है और इन सब नुस्खे को जरूर अपने वो जरूर काम करेंगे । अगर आपको ये सब करने के बाद भी आराम नहीं मिले तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी


मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 408

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top