Headache in pregnancy

Headache in pregnancy in hindi:गर्भावस्था में सिर दर्द,कारण,बचाव औऱ इलाज

प्रेग्नेंसी में सिरदर्द(Headache in pregnancy in hindi) एक बुरे सपने कि दर्द होता हैं। सिरदर्द आम दिनों में ही बहुत परेशान कर देता है लेकिन गर्भवस्था में ये असहनीय हो जाता है। लेकिन ये वास्तविकता है क्योंकि सिर दर्द पहली तिमाही के दौरान आम होता है। 

Table of Contents HIDE

आम तौर, पर आपको सिर दर्द से बचने के लिए(headache in pregnancy in hindi)आप दवाई ले सकते हो ।लेकिन, गर्भवस्था के दौरान आप ज्यादा दवाईया नही ले सकती । तो आइये जानते है प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले सिरदर्द से बचने के उपाय और बचाव के तरीके जिनका उल्लेख इन लेख में किया गया हैं।

क्या गर्भावस्था में सिरदर्द होना आम हैं?(Are headache in pregnancy common?)

आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण गर्भधारण के दौरान सिर दर्द होता है। अगर पहली तिमाही के दौरान आपका सिरदर्द लगातार हो रहा है। तो अगली तिमाही में या जैसे ही गर्भावस्था में हार्मोन संतुलन में आएंगे।वैसे वैसे दर्द थोडा कम हो सकता हैं।

गर्भावस्था के 9 महीनो के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ?,क्या करे -क्या न करे

गर्भावस्था में सिरदर्द क्यों होता है?(Why does pregnancy cause headaches?)

शुरुआती गर्भावस्था में हार्मोन में परिवर्तन और रक्त की मात्रा में वृद्धि होने की वजह से लगातार सिरदर्द हो सकता है।इसके कारण इस प्रकार हैं:

  • आपका ब्लड प्रेशर हाई होने के कारण आपका सिरदर्द हो सकता हैं।
  • अगर आपको प्रेग्नेंसी से पहले सिर दर्द की या माइग्रेन की शिकायत थी ,तो आपको गर्भावस्था के दौरान इसका अनुभव होने की ज्यादा जानकारी होगी।
  • गर्भावस्था के लक्षण जैसे: भूक, थकान,एक्सरसाइज की कमी, डीहाइड्रेशन आदि के काऱण भी गर्भावस्था में सिरदर्द हो सकता है।
  • सिरदर्द, ज्यादा कैफ़ीन का सेवन हानिकारक प्रभावो में से एक है लेकिन अगर आप आचानक से कैफीन का सेवन बन्द कर देते है।तब भी आपके सिर मे दर्द होता है।
  • नाक बंद होने से भी आपके गालों के पीछे के हिस्से में दर्द हो सकता है, जिस से सिरदर्द होने की आकांशा बढ़ जाती है। इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान आँखों के आसपास के प्रेशर पर बदलाव आने पर आंखों पर तनाव पड़ना शुरू होने लगता है और दृष्टि पर प्रभाव पडता है और उसकी वजह से सिरदर्द उतपन्न होने लगता है।
  • तनाव से चिंता और सिरदर्द उतपन्न हो सकता है और स्तिथी बद से बदतर हो सकती हैं।
  • निर्जलीकरण के कारण भी आप अपनी गर्दन के पिछले हिस्से के आसपास दर्द महसूस कर सकती है, जो कि सिर दर्द का बहुत बड़ा कारण हो सकता है।

गर्भावस्था में होने वाले सिर दर्द के इलाज़ -(Treatment of headache)

उपचार किसी अनुभवी औऱ प्रमाणित चिकित्सक द्वारा ही कराए। यहाँ कुछ ऐसे ही उपचार दिये गए हैं जो आप करा सकती है:-

  • एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर: एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर , आपके शरीर की ऐसी बिंदुओ को ऐसे उतेजीत करता है ।जिसे सिर दर्द कम होता है। इसके अलावा एक्यूपंक्चर, माइग्रेन और तनाव वाले सिर दर्द के लिए अच्छा है।
  •   अरोमाथेरेपी: जितनी बार आपको दर्द महसूस हो , टिश्यू पेपर या रूमाल पर लैवेंडर तेल और पेपरमिंट तेल की कुछ बूंदे डाले ओर उन्हें सूंघे इस से आपको बहुत अच्छा महसूस होगा ओर अगर आप चाहे तो आप तेल को अपने माथे पर रगड़ सकते हो।
  • होम्योपैथी: होम्योपैथी उपचार हल्के सिर दर्द के इलाज के लिए किया जाता है।
  • ओस्टियोपैथी और कायरोप्रेक्टिक: यदि आपके सिर में दर्द, कंधे या गर्दन में दर्द होने के कारण की वजह से हो रहा है तो ओस्टियोपैथी थेरेपी बहुत अच्छे तरह से काम करती है। यह विशेष रूप से आपके शरीर मे हो रहे तनाव बिंदूओ पर काम करके आपकी हड्डियों, जोडों और मासपेशियों को फिर से संघटित करने में सहायता करती है। सिर दर्द का इलाज करने का एक अन्य तरीका कायरोप्रेक्टिके थेरेपी का उपयोग करना है, जो गंभीर सिर दर्द का इलाज करने के लिए रीढ़ की हड्डी का उपयोग करता है।
  • रिफ्लक्सोलॉजी: मामूली सिर दर्द के लिए, रिफ्लक्सोलॉजी तकनीक अच्छी तरह से काम करती है।यह बार बार सिरदर्द होने की समस्या को कम करने में बहुत मदद करती है।
  • भाप लेना :गर्म पानी के एक पैन से भाप लेने से साइनस को साफ करके बन्द नाक में राहत मिलती है जिससे आपके सिरदर्द को राहत मिलती है। आप बंद नाक के सम्बंध में अपने डॉक्टर के पास जाकर जांच करवा सकती है, यह गर्भावस्था  के दौरान कराना पूरी तरह से सुरक्षित है।
  • मसाज कराएं: कंधो, पीठ और गर्दन पर अच्छी मालिश कराने से भी माइग्रेन से राहत मिलती है। लेकिन मसाज किसी पेशावर मसाज वाले से ही करायें, जिसे गर्भवती महिलाओं की मालिश करने का अनुभव हो। इसके अलावा, आप आयुर्वेदिक तेल का प्रयोग करके अपने सिर की मालिश करा सकती है जो दर्द से छुटकारा दे सकती है। इस तरह की मालिश एक हद तक तनाव से होने वाले सिर दर्द को कम करने में मदद करती है। एक अध्ययन में पाया गया है कि छह हफ्ते लगातार मालिश करने से माइग्रेन में सुधार होता है।
  • स्नान करें:  ठंडे पानी से स्नान करने से भी अस्थायी और तेज़ सिर दर्द से राहत मिलती है। यहाँ तक कि चेहरे पर कुछ ठंडे पानी की बूंदे जाते ही तनाव भरे सिर दर्द से राहत मिल जाती है।इसके अलावा, गर्म पानी मे सेंधा नमक डालकर 15 मिनट स्नान करने के बाद आपको अच्छा महसूस होसकता है।
  • सही ब्रा का चयन करें:  गर्भावस्था के दौरान,स्तन लिंगामेंट्स आपके बढ़ते स्तनों को स्पोर्ट करने के लिए फैलते है,जिसे आपकी पीठ पर और गर्दन पर काफी दबाव पड़ता है, जिस से सिरदर्द भी होता है।

गर्भावस्था के थ्री ट्राइमेस्टर के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

गर्भावस्था में सिरदर्द के हर्बल उपचार (Herbal Remedies for Headache in Pregnancy in hindi)

आप घर पर कुछ हर्बल उपचार भी आज़मा सकती है,जो कि इस प्रकार है:

  • एक चम्मच नींबू की पत्तियां, लेवेंडर और कैमोमाइल चाय का उपयोग करके हर्बल चाय बनाए। इसमें आधा चम्मच सौंफ और शहद मिलाके पी लें।यह चिंता ओर साइनस में होने वाले सिर दर्द के लिए अच्छे तरिके से कम करती है।
  • एक कप दूध में तीन चम्मच दालचीनी पाउडर ओर उसे उबाल लें। दूध ठंडा होने के बाद स्वाद के लिए उसमे शहद मिलाएं और पी लें ,अगर आपका सिर जादा दर्द हो रहा है तो इसे दिन में दो बार पिये ।
  • एक गिलास पानी में, दो चम्मच सेब का सिरका और दो चम्मच शहद मिलाएं और इसे पिले।
  • अदरक में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट सिर दर्द को कम करने में मदद करता है। एक कप अदरक की चाय पिये अगर आपको हल्का सिर दर्द महसूस होता हैं।
  • लेवेंडर आयल , सिर दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है और गर्भावस्था के दौरान बहतर नींद लाने में भी सहायता करता हैं।
Diet chart pregnancy in hindi:गर्भावस्था आहार चार्ट सम्पूर्ण जानकारी

गर्भावस्था में सिर दर्द से बचाव (Avoiding headache in pregnancy in hindi)

पहली तिमाही के दौरान सिर दर्द ज़्यादातर होर्मनल परिवर्तन के कारण होता है और आप उन्हें रोकने के लिए कुछ ज्यादा नही कर सकते। हालांकि, अनुशासित जीवनशैली होने से सिर दर्द की संभावना कम हो सकती है:

Abdominal pain in pregnancy in hindi:प्रेग्नेंसी में पेट दर्द
  • ब्लड शुगर का स्तर कम होने से गर्भावस्था के दौरान सिर दर्द हो सकता है।यह भोजन न करने के परिणाम होता हैं।इसलिए स्वस्थ आहार जैसे संपूर्ण  अनाज, पौष्टिक ग्रेनोला खाएं।
  • पर्याप्त आराम करें। आराम करने से आंखों पर कम जोर देने से सिर दर्द और माइग्रेन में कमी आती है अच्छी नींद के लिए  रात मे समय पर सोए इसे थकान औऱ मानसिक तनाव से दूर रहने में मदद मिलती हैं।
  • कैफीन का सेवन न करें। और अगर आपको कॉफी की लत है और अब आप प्रेग्नेंट है तो कैफीन का सेवन धीरे धीरे कम करें। दिन में दो ही बार सेवन कर सकते है इसे जादा नही।
  • थोड़ा बहुत हवा में सैर करना शुरू करे। गर्म जगह पर न जाए और गन्द से दूर रहे। ताज़ी हवा में साँस ले और कमरे की खिड़की को खोलकर रखें।
  • रोशनी ओर शोर वाले वातावरण से दूर रहे।
Mood swing in pregnancy in hindi:प्रेगनेंसी में मुड में बदलाव..

गर्भावस्था में सिर दर्द होने पर डॉक्टर के पास कब जाए (When to go to the doctor if you have a headache in pregnancy in hindi)

Miscarriage in pregnancy in hindi:गर्भपात क्या है? इन हिंदी..
  • नींद से जागते ही बहुत तेज़ सिर में दर्द होना।
  • अगर ऐसा सिर दर्द आपने कभी अनुभव नहीं किया हुआ हो।
  • अगर दर्द में गर्दन में अकड़न और बुखार के साथ होना शुरू हुआ हो।
  • अगर कही गिरते वक़्त सिर पे चोट आई हो।
  • कंप्यूटर पर ज्यादा देर तक काम करने की वजह से आपका सिर दर्द होता है।
  • सिर दर्द की शुरुआत दाँतो में दर्द होने के साथ हुईं है तो यह आपके साइनस में संक्रमण की ओर सकेंत करता है।
  • और अगर आपको नज़र में कोई परिवर्तन,आपके ऊपरी पेट मे दर्द , अचानक से वजन बढ़ना , उल्टी या हाथ और मुह का सूजन जैसा महसूस होना 

समय पर उपचार करने से आपकी समस्या को कम करने में मदद करेगा।


मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 352

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top