Gastrointestinal Stromal Tumors

Gastrointestinal Stromal Tumors:गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

एक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर(Gastrointestinal Stromal Tumors) एक दुर्लभ प्रकार का ट्यूमर है जो कि पाचन तंत्र में होता है, जो आमतौर पर पेट में छोटी आंत से सम्बंधित होता है। इस ट्यूमर का सटीक कारण तो मालूम नहीं हो पाता है, परन्तु यह आनुवंशिक कारणों से हो सकता है। जिस तरह से अन्य प्रकार के ट्यूमर के लक्षण उसके आकार, स्थान, तथा अन्य कारणों पर निर्भर करता है उसी प्रकार से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर के लक्षण भी उसके आकार, स्थान तथा अन्य कारकों पर निर्भर करते हैं। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर के सबसे आम लक्षण खूनी दस्त होना, पेट दर्द होना, आंतों में किसी प्रकार की रूकावट होना, निगलने में दिक्कत होना, और मतली आना हो सकता है।आमतौर पर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर 40 से 70 वर्ष की आयु के वयस्कों में पाए जाते हैं; परंतु कभी कभी, बच्चों और युवा वयस्कों में भी ये ट्यूमर विकसित हो सकता हैं।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर आपके पाचन तंत्र की दीवारों में स्थित विशेष तंत्रिका कोशिकाओं में प्रारम्भ होता है। ये कोशिकाएं स्वायत्त तंत्रिका तंत्र का ही एक हिस्सा होती हैं। जठरांत्र पथ की दीवार में विशेष कोशिकाओं के बहुत प्रारंभिक रूपों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर प्रारम्भ होता है जिसे काजल ( आईसीसी ) की अंतरालीय कोशिकाएं भी कहा जाता है। काजल ( आईसीसी ) को कभी-कभी जठरांत्र पथ को “पेसमेकर” कहा जाता है क्योंकि वे जाठरांत्र पथ में मांसपेशियों को संकेत देते हैं कि वे भोजन और तरल को स्थानांतरित करने के लिए अनुबन्धित करे है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर के लक्षण :-Symptoms of gastrointestinal stromal tumors

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर ले लक्श कुछ निम्न प्रकार से है –

  • एनीमिया, धीमी गति से रक्तस्राव के कारण होता है
  • पेट में दर्द
  • आप अपने पेट के आकार बढ़ता हुआ महसूस कर सकते है
  • पाचन तंत्र में संक्रमण
  • पेट में सूजन आना
  • दस्त होना
  • उल्टी होना
  • भूख कम लगना
  • जी मिचलाना
  • ठंड लगना
  • त्वचा में हल्की जलन होना, 
  • अत्यधिक पसीना आना
  • बुखार होना
  • मांसपेशियों में तकलीफ होना
  • वजन कम होना
  • निगलने में कठिनाई
  • जठरांत्र में रक्तस्राव इत्यादि।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर के कारण :-Causes of gastrointestinal stromal tumors

शोधकर्ताओं के द्वारा ठीक प्रकार से ज्ञात नहीं है कि ज्यादातर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर के कारण क्या है? वहीं एक शोधों से यह ज्ञात हुआ है कि डीएनए में कुछ खास बदलावों के कारण ही सामान्य कोशिकाएं कैंसर कोशिकाओं में परिवर्तित हो जाती हैं।

डीएनए हमारी कोशिकाओं में एक प्रकार का रसायन होता है जो हमारे जीन का निर्माण करता है, यही जीन हमारे कोशिकाओं के कार्य को नियंत्रित करते है। आमतौर पर हम अपने माता-पिता की तरह दिखते हैं क्योंकि हमारे माता पिता ही हमारे डीएनए का स्रोत हैं।

कोशिकाओं के बढ़ने तथा नई कोशिकाओं में विभाजन की प्रक्रिया को कुछ जीन नियंत्रित करते हैं: वे निम्न प्रकार से है

  • ऑन्कोजीन :- कुछ जीन ऐसे होते है जो कोशिकाओं को बढ़ने में, उनका विभाजित करने में और उन्हें जीवित रहने में मदद करते हैं, उन्हें ऑन्कोजीन कहते है।
  • ट्यूमर सप्रेसर जीन :- ऐसे जीन जो सामान्य रूप से कोशिका वृद्धि को नियंत्रित रखते हैं, डीएनए में गलतियों को सुधारते हैं, अथवा कोशिकाओं की सही समय पर मृत्यु का कारण बनते हैं, उन्हें ट्यूमर सप्रेसर जीन कहते हैं।

इनके अलावा कुछ जोखिम कारक है जो कि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर की संभावना बढ़ सकते है वे कारक कुछ निम्न प्रकार से हैं –

  • आपके परिवार में किसी को गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर रहा हो
  • रसायनों के संपर्क में आना जाने से
  • विकिरण अनावरण से आदि।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर के स्कैन :scan

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर के इलाज से पूर्व डॉक्टर आपसे आपकी पुरानी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में और अन्य सवाल पूछ सकते है। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर का इलाज करने से पूर्व डॉक्टर आपकी जाँच करेंगे जैसे आपके पेट में कुछ वृद्धि हो रही है क्या? तथा अन्य लक्षणों पर भी चर्चा कर सकते है। डॉक्टर आपको निम्न प्रकार के जाँच करवाने को कह सकते है –

  • सीटी स्कैन :- इस परीक्षण में आपको एक तरल दिया जाता है जिसे आपको निगलना होता हैं जो आपके पेट और छोटी आंत को एक्स-रे पर अधिक दिखाई देता है। आपको एक प्रकार का एक इंजेक्शन दिया जा सकता हैं। फिर यह स्कैनर आपके पेट पर चलेगा और स्कैनर कई तरह के एक्स-रे लेता है । एक कंप्यूटर आपके एक्स-रे को आपके पेट के अंगों के विस्तृत, पार-अनुभागीय चित्रों में जोड़ता है, जो ट्यूमर के आकार और स्थिति को दिखाता है।
  • एंडोस्कोपी :- इस परीक्षण में पेट की आंतरिक परत की जांच कि जाती है। इस प्रक्रिया में एक लचीली, हल्की ट्यूब आपके छोटी आंत का पहला हिस्सा आपके मुंह से होकर गुजरता है।
  • बायोप्सी :- इस परीक्षण के द्वारा प्रोटीन ट्यूमर कोशिकाओं के बनने की जानकारी प्राप्त होती हैं। इन परीक्षणों में से एक, इम्यूनोहिस्टोकेमिस्ट्री, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर कोशिकाओं में जीन द्वारा नियंत्रित विशिष्ट प्रोटीन का पता लगाता है। इन प्रोटीनों की पहचान के द्वारा उपचार के निर्णयों को निर्देशित करने में मदद मिलती है। कभी-कभी, ट्यूमर डीएनए में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल जीन का पता लगाने के लिए बायोप्सी नमूनों का वास्तविक आनुवंशिक परीक्षण महत्वपूर्ण होता है।

इनके अलावा भी कुछ परीक्षण है जो डॉक्टरो के द्वारा किये जा सकते है 

  • अल्ट्रासाउंड
  • गणना की गई टोमोग्राफी
  • एमआरआई ( चुंबकीय अनुनाइमेजिंग )
  • पॉजिट्रॉन उत्सर्जन टोमोग्राफी 

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर के इलाज :-Gastrointestinal stromal tumor treatment

प्रति वर्ष अमेरिका के करीब 4,000 से 60,000 लोगों मे इस प्रकार के ट्यूमर का इलाज करवाते हैं। जबकि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर एक प्रकार के गंभीर रोग होता हैं और इसका इलाज जल्दी से जल्दी किया जाना चाहिए, लेकिन ये सभी रोग आगे चल कर कैंसर में विकसित नहीं होते हैं। कुछ सौम्य कैंसरस और नॉन कैंसरस होते हैं, जो की शरीर के अन्य हिस्सों में नहीं फैलते हैं। डॉक्टर यह निर्धारित करने के लिए कई परीक्षण करेगें कि क्या आपका गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर कैंसरग्रस्त है अथवा नहीं। यदि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर कैंसर ग्रसित होगा, तो डॉक्टर इसको ट्यूमर की तरह ही मानेगे और वह आपको इसका सही उपचार करने का तरीका भी बताएंगे।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर(Gastrointestinal Stromal Tumors) के इलाज के लिए जो इलाज डॉक्टरो के द्वारा किये जाते है वे कुछ निम्न प्रकार से हैं –

  • शल्य चिकित्सा ( सर्जरी ) :- आमतौर पर बड़े अथवा रोगसूचक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर को शल्य चिकित्सा की विधि से हटा दिया जाता है जब तक कि वे बहुत बड़े नहीं होते हैं अथवा वे सर्जरी के लिए बहुत सारे अंगों तथा ऊतकों को शामिल करते हैं। उन लोगों में भी देरी तथा परहेज किया जाता है, जिनका सामान्य स्वास्थ्य किसी भी सर्जरी को शुरू करने के लिए बहुत जोखिम भरा बनता है, साथ ही साथ मेटास्टेटिक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर होने की संभावना होती है। यह अक्सर करने के लिए बांटना संभव है गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी है, जो पेट में छोटे चीरों के माध्यम से एक को देखने ट्यूब (लेप्रोस्कोप) और शल्य चिकित्सा उपकरणों डालने शामिल है।
  • लक्षित चिकित्सा ( टारगेटेड थेरेपी ) :- लक्षित दवा के उपचार से कैंसर कोशिकाओं के अंदर उपस्थित विशिष्ट असामान्यताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इन असामान्यताओं को अवरुद्ध करके, लक्षित दवा के उपचार से कैंसर कोशिकाओं की मृत्यु हो सकती हैं। इसके लिए टायरोसिन कीनेस मदद करता है जो कि कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है।

कैंसर के बारे में कुछ और महत्वपूर्ण जानकारिया

मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 435

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top