Gas problems during pregnancy in hindi

Gas problems during pregnancy in hindi:गर्भावस्था के दौरान गैस की समस्या

कहते हैं किसी के भी जीवन में कोई भी सुख इतनी आसानी से नहीं आता है। प्रत्येक सुख को प्राप्त करने के लिए हर इंसान को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे में यदि बात करें एक महिला के गर्भवती होने की तो गर्भ के 9 महीनों की तकलीफ सहने के बाद ही एक महिला अपनी गोद में अपने बच्चे को खिला पाती है। आज हम बात कर रहे हैं घर के दौरान होने वाली सबसे महत्वपूर्ण समस्या जिसकी वजह से एक गर्भवती महिला सही से ना तो खाना खा सकती है और ना ही आराम कर सकती है। वह समस्या गर्भवती महिला के लिए गैस की समस्या(Gas problems during pregnancy in hindi) है। जिसकी वजह से गर्भवती महिला ना तो सही समय पर खाना खा पाती है और ना ही ठीक से आराम कर पाती है। 

Table of Contents HIDE

आज हम बताएंगे यदि किसी गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को गैस की वजह से पेट फूलने जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है तो उसके क्या कारण होते हैं और उसे कैसे ठीक किया जा सकता है। तो आइए जानते हैं इन सभी चीजों के बारे में विस्तार से….

क्यों होती है गर्भावस्था के दौरान गैस और पेट फूलने की समस्या क्या है इसके कारण?(Why do occur flatulence and gas problems during pregnancy in hindi) 

विशेषज्ञों द्वारा ऐसा बताया जाता है कि गर्भावस्था के दौरान एक गर्भवती महिला के शरीर में प्रोजेस्ट्रोन नामक हार्मोन का स्तर धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। जिसकी वजह से एक गर्भवती महिला के पाचन तंत्र के साथ-साथ शरीर की सारी मांसपेशियां ढीली होने लगती है, और धीरे-धीरे उसकी पाचन शक्ति कमजोर होने की वजह से गैस व पेट फूलने जैसी समस्या उत्पन्न होती है। 

आइए जानते हैं गर्भावस्था के दौरान गैस की समस्या के कुछ मुख्य कारण(Let’s know some main reasons for gas problems during pregnancy in hindi ):- 

  • कब्ज के कारण:- गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला थोड़ा काम करने के बाद ही थक जाती है और वह खाना खाने के बाद तुरंत आराम करने चली जाती है ऐसे में गर्भवती महिला के पेट में खाना पच नहीं पाता है जिसकी वजह से कब्ज होने लगती है और गैस और पेट फूलने की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
  • मलाशय में बैक्टीरिया का संतुलन:- आधे बचे हुए खाने की वजह से गर्भवती महिला के मलाशय में बैक्टीरिया का संतुलन पूरी तरह से गड़बड़ हो जाता है जिसकी वजह से गैस बननी आरंभ हो जाती है। 
  • बढ़ता वजन:- गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को बार बार भूख लगती है ऐसे में वह धीरे-धीरे थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ ना कुछ खाती रहती हैं ऐसी स्थिति में भी गैस की समस्या उत्पन्न होती है।
  • खाने में लापरवाही:- जहां अधिक खाने से गैस बनती है वही खाने में लापरवाही करने से भी ज्यादा गैस की बीमारी होती है। विशेषज्ञों का मानना है कि गर्भावस्था के दौरान यदि गर्भवती महिला ज्यादा देर तक खाली पेट रहती है तो ऐसे में गर्भवती महिला को अधिक गैस की समस्या रहती है। 

गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थों से बचें(Avoid gas-producing foods)

गर्भवती महिला के लिए एक डाइट चार्ट प्लान बना होना चाहिए जिसके अनुसार ही उन्हें खानपान रखना चाहिए अन्यथा उन्हें आम तौर पर गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है। कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जिनको खाने से भले यह मुंह के टेस्ट चेंज हो जाए परंतु उनकी वजह से गैस बन जाती है। तो चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ पदार्थ जिनकी वजह से गैस जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है।

  • कुछ सब्जियां ऐसी होती है जिनमें कार्बोहाइड्रेट अधिक मात्रा में होता है वह सब्जियां गर्भवती महिला के द्वारा जल्दी से बचा ही नहीं जा सकते हैं उन सब्जियों में मुख्य रूप से गोभी, पत्ता गोभी, बींस, प्याज, और ब्रोकली सम्मिलित किए जाते हैं। ऐसी सब्जियों के सेवन से गर्भवती महिला को सामान्य तौर पर गैस की समस्या हो जाती है।
  • कुछ डाले भी ऐसी होती है जिनको खाने से गैस की समस्या उत्पन्न हो जाती है क्योंकि उन दालों में भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है और फाइबर का सेवन करने से पेट में गैस की समस्या उत्पन्न होती है। चना, मसूर की दाल व हरा चना जैसी दालें जिनमें बहुत ज्यादा मात्रा में फाइबर होता है इनको खाने से गैस की समस्या उत्पन्न होना लाजमी है। 
  • कुछ बाहर के जंक फूड ऐसे होते हैं जिनको खाने से भी पेट में गैस की समस्या उत्पन्न होती है उनमें कुछ मुख्य रूप से कोल्ड्रिंक, बियर व वाइन जैसे अन्य पदार्थ है जो कार्बन डाइऑक्साइड शरीर में पैदा करते हैं जिनकी वजह से गैस की समस्या उत्पन्न होती है।
  • इन सबके अलावा कुछ ऐसे बीज होते हैं जिनको खाने से भी पेट फूलने और गैस जैसी समस्या उत्पन्न होती है उनमें सूरजमुखी, खसखस और सौंफ आदि भी सम्मिलित किए जाते हैं।
  • कुछ फ़लों में अधिक फ्रक्टोज की मात्रा होती है जिनकी वजह से भी गैस जैसी समस्या उत्पन्न होती है।

गर्भावस्था के दौरान गैस से बचने के लिए कुछ घरेलू उपाय(Some home remedies to avoid gas problems during pregnancy in hindi)

वैसे तो अधिक समस्या के दौरान डॉक्टर से सलाह लेना अति आवश्यक है यदि आप घर के ही कुछ उपचारों की मदद से गैस से राहत आना चाहते हैं तो कुछ उपाय हमने निम्नलिखित बताए हैं।

  • कैमोमाइल चाय बेहद फायदेमंद होती है यदि आप खाना खाने के बाद एक कप कैमोमाइल चाय का सेवन करें तो यह आपको गैस जैसी समस्या से निजात दिला सकती है।
  • इलायची जो कि बेहद गुणकारी होती है यदि आपको गैस की समस्या महसूस होने लगती है तो इसे तुरंत मुंह में रख लें या फिर इलायची की चाय बनाकर पी ले तो यह आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकते हैं।
  • दालचीनी पाउडर और शहद दोनों ही गर्भावस्था के दौरान बेहद फायदेमंद उत्पाद होते हैं यदि इन्हें एक कप उबलते हुए पानी में मिलाकर पिया जाए तो आपको गैस से तुरंत छुटकारा मिल जाएगा।
  • इसके अतिरिक्त यदि आप धनिया के कुछ बीज को कूटकर पानी में डालकर उबाल लें और उसे छानकर पी लें तो उससे भी आप गैस से राहत पा सकते है।
  • अदरक जो हमारे शरीर में बहुत ज्यादा फायदा पहुंचाती है गैस की अवस्था में आप एक चम्मच अदरक का रस शहद में मिलाकर ले सकते हैं जो आपको गैस से छुटकारा दिला सकता है।

प्रेगनेंसी के दौरान कुछ महत्वपूर्ण टिप्स गैस की समस्या के लिए (Some Important Tips gas problems during pregnancy in hindi )

यदि आप चाहते हैं कि गर्भावस्था के दौरान आपको किसी भी प्रकार की गैस जैसी समस्या से न जूझना पड़े तो नीचे दिए गए कुछ टिप्स को अवश्य अपनाएं इन्हें अपनाने के बाद आप गैस जैसी समस्या के निकट भी नहीं जाएंगे। 

  •  थोड़ा-थोड़ा खाए:- विशेषज्ञ मानते हैं कि गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को बार बार भूख लगती है ऐसे में एक साथ बहुत ज्यादा खाने से आपको गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है इसलिए कभी भी एक साथ भर के खाना ना खाए थोड़ी थोड़ी देर में थोड़ा थोड़ा खाना खाए और खाना खाने के बाद टहलना ना भूले।
  • तरल पदार्थ ले:- गर्भावस्था के दौरान पानी का बहुत ज्यादा अधिक महत्व बताया गया है ऐसे में यदि आप थोड़ी थोड़ी देर में पानी का सेवन करती रहेगी तब भी आपको गैस जैसी समस्या से जूझना नहीं पड़ेगा। चाहे तो आप नींबू पानी का सेवन भी कर सकती हैं।
  • फाइबर युक्त भोजन करें:- फाइबर युक्त भोजन करने से हमारे पाचन तंत्र को बहुत फायदा होता है क्योंकि फाइबर हमारे पाचन तंत्र से पानी को लेकर हमारे हाथों तक आसानी से पहुंच आता है जिससे हमारा खाना जल्दी पच जाता है और गैस जैसी समस्या उत्पन्न नहीं होती है।
  • तले हुए भोजन से दूर रहे:- यदि आपको गैस जैसी समस्या बहुत ज्यादा है तो आप तले हुए पदार्थों से दूर रहें ताकि आप गैस जैसी परेशानी से ना जूझे। 

गैस से राहत पाने के लिए कुछ मुख्य दवाई(Some main medicines to get relief from gas)

वैसे तो अपनी यह परेशानी आप उस डॉक्टर को बताएं जिससे आप अपनी प्रेगनेंसी का इलाज ले रहे हैं। अन्यथा आप नीचे बताई दवाई का सेवन भी कर सकते हैं:- 

  • Mylicon, Gas-X
  • Antacids 

वैसे तो यह दवाई आप ले सकते हैं इनसे आप को कोई नुकसान नहीं होगा लेकिन यदि आप की प्रेगनेंसी में किसी भी प्रकार की कोई समस्या है या फिर आप थोड़ा सा भी संदेह रखते हैं तो आप किसी भी डॉक्टर या अपने खुद के डॉक्टर से जाकर इन दवाइयों को लेने से पहले सलाह मशवरा कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान जितना आप दवाई से परहेज करेंगे उतना ज्यादा अच्छा है इसलिए अपना एक नियम बनाए और उसी को पालन करते हुए अपनी गर्भावस्था के समय को सुखद बनाएं। 

गर्भावस्था में बुखार आने के कारण
गर्भावस्था में कमर दर्द और पेट दर्द के कारण और इलाज:Causes and treatment of back pain and abdominal pain in pregnancy in hindi
मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 439

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top