chest pain in hindi

Chest Pain in Hindi :सीने में दर्द क्या होता है उसके कारन लक्षण और उपचार

छाती में जो दर्द होता है वह सीने में दर्द और चुभन जैसा होता है। यह दर्द एक तरह का उभार है। सीने में दर्द कई रूपों में होता है, जिसमें तेज दर्द से लेकर मंद दर्द तक होता है। कभी-कभी सीने में दर्द या जलन महसूस होती है। कुछ मामलों में, दर्द गर्दन तक, जबड़े तक जाता है, और फिर पीठ या नीचे एक या दोनों हाथों तक फैल जाता है। -Chest Pain in Hindi

कई अलग-अलग समस्याएं सीने में दर्द का कारण बन सकती हैं। सबसे अधिक जानलेवा कारणों में हृदय या फेफड़े शामिल हैं। चूंकि सीने में दर्द एक गंभीर समस्या का संकेत दे सकता है, इसलिए तत्काल चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण है। -Chest Pain in Hindi

आमतौर पर छाती का जो दर्द होता है वह हृदय से जुड़ा हुआ रहता है, और यह दिल से भी जुड़ा हुआ रहता है। कई ऐसी समस्याए होती है, जो सीने के दर्द का कारन भी बन सकता है। सामान्यतौर पर छाती की बीमारी हृदय और फेफड़ो से सबंधित होती है| छाती के दर्द का सही कारन पता लगाना भी आसान काम नहीं होता  है । यदि आपको छाती में दर्द महसूस हो या जलन महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाकर इसका उपचार करवा लेना चाहिए।

सीने में दर्द के लक्षण : Symptoms of Chest Pain in Hindi 

सीने में जो दर्द होता है वह लक्षण के आधार पर कई अलग-अलग संवेदनाएं को पैदा कर सकता है। अक्सर, इसका दिल से कोई लेना-देना नहीं होता है – हालांकि डॉक्टर ही आपको देखकर सही इलाज बता सकता है। 

दिल से संबंधित सीने में दर्द –Heart-related chest pain

हालांकि सीने में दर्द अक्सर हृदय रोग से जुड़ा होता है, हृदय रोग से पीड़ित कई लोग कहते हैं कि उन्हें एक अस्पष्ट असुविधा होती है जिसे जरूरी नहीं कि दर्द के रूप में पहचाना जाए। सामान्य तौर पर, दिल का दौरा पड़ने या दिल की किसी अन्य समस्या से संबंधित सीने में परेशानी का वर्णन निम्नलिखित में से एक या अधिक द्वारा किया जा सकता है या उससे जुड़ा हो सकता है:

  • आपके सीने में दबाव महसूस हो , परिपूर्णता, जलन या जकड़न महसूस हो
  • दर्द जो आपकी पीठ, गर्दन, जबड़े, कंधों और एक या दोनों बाहों में फैलता है
  • ऐसा दर्द जो कुछ मिनटों से अधिक समय तक बना रहता है,और गतिविधि के साथ खराब होते जाता है, और फिर चला जाता है और फिर वापस आ जाता है, या तीव्रता में भी भिन्न होता है
  • ठंडा पसीना
  • छाती में जलन हो जाना 
  • सीने में खिचाव का अहसास होना 
  • मचलाहट हो जाना 
  • उलटी हो जाना 
  • घबराहट महसूस होना 
  • पसीना आ जाना 
  • सांस लेने में तकलीफ होना 
  • कमजोरी या चक्कर आते है 
  • अचानक तेज दर्द महसूस आना 

अन्य प्रकार के सीने में दर्द –Other types of chest pain

दिल से संबंधित सीने में दर्द को अन्य प्रकार के सीने के दर्द से अलग करना मुश्किल हो सकता है। हालांकि, सीने में दर्द जिसकी संभावना हृदय की समस्या के कारण कम होती है, अक्सर इसके साथ जुड़ा होता है:

  • एक खट्टा स्वाद या भोजन की अनुभूति आपके मुंह में फिर से प्रवेश कर रही है
  • निगलने में परेशानी
  • दर्द जो आपके शरीर की स्थिति बदलने पर बेहतर या बदतर हो जाता है
  • एशा दर्द जो गहरी सांस लेने या खांसने पर बहुत अधिक बढ़ जाता है
  • ऎसा दर्द जो कई घंटों तक महसूस होता रहता है 
  • पेट में जलन के क्लासिक लक्षण – ब्रेस्टबोन के पीछे एक दर्दनाक, जलन – हृदय या पेट की समस्याओं के कारण हो सकते हैं।

सीने में दर्द के कारण : Causes of Chest Pain in Hindi

सीने में दर्द के कई संभावित कारण हैं, जिनमें से सभी को चिकित्सकीय ध्यान देने की आवश्यकता है।

ऐसा बहुत लोगो का मानना है , अगर आपके सीने में दर्द हुआ है तो उसका कारण हृदय से सबंधित बीमारिया हो सकती है। किन्तु यह सच नहीं होता है । सीने में दर्द होने के निम्न लक्षण भी हो सकते है। 

दिल का दौरा (Heart attack):- अगर हृदय के किसी भी भाग में अचानक से खून रुक जाता है या दिल तक रक्त नहीं पहुंच पाने के कारण भी दिल के दौरे की बीमारी हो सकती है।

एंजाइना (angina):-हृदय की माशपेशियों तक अगर रक्त नहीं पहुंच पाता है ।

इन दोनों स्थितियों के बिच का अंतर बस यही अंतर होता है, अगर आपके शरीर में एंजाइना के कारन दर्द की शुरुवात होती है तो उससे मचलाहट, उलटी और मानसिक तनाव से शुरुवात होती है और यह बहुत जल्दी ठीक भी हो जाती है। अगर आपको दिल का दौरा हुआ हे तो उसके लक्षण १० मिनिट से अधिक समय तक बने रहते है, और इनके कारण आपको अधिक पसीना आना,मचलाहट होना , उलटी होना और घबराहट आदि जैसी समस्याए पैदा हो सकती है।

छाती में दर्द के सामान्य कारण निम्न होते है :-

अधिकतर छाती में होने वाले जो दर्द होते है वह हृदय से सबंधित नहीं होते है। और इनका शरीर पर कोई खास असर भी नहीं पड़ता है। यह हमारे जीवन के लिए कोई हानिकारक संकेत नहीं होता है। लेकिन आपकी छाती के दर्द के बारे में सुनिश्चित करने के लिए डॉक्टर से उपचार करवाए और उनसे सलाह अवश्य लेना चाहिए। 

छाती में दर्द के निम्न सामान्य कारन होते है :

फेफड़ो की समस्या होना :– आपकी छाती में तेज दर्द निमोनिया और प्लारीसी के समस्याओं के कारण भी होता है अगर आप सांस अंदर बाहर लेते है तो इनमे ज्यादा दर्द महसूस होता है। इनकी जो स्थिति होती है वह खासी और सांस फूलने जैसे अन्य लक्षणों से जुडी हुई महसूस होती है।

सीने की माशपेशियों में खिंचाव होना :– आपकी छाती के मांसपेशियों में खिंचाव होने के कारण छाती में तेज दर्द महसूस होता है। परन्तु अगर आप आराम करते है तो माशपेशियों का दर्द कम हो जाता है।

गार्ड या गेस्ट्रो-इसोफेगल-रिफलक्स रोग होना :– यह छाती में दर्द होने की एक आम स्थिति होती है इसमें अम्लीय पदार्थ जो होता है पेट से वापस मुँह की तरफ गैस नई से आता है। जिसके कारण आपको मुँह में ख़राब स्वाद और सीने में जलन महसूस होती है।

चिंता के कारण समस्या :- चिंता के कारण आपको पसीना आना, सास फूल जाना ,चक्कर आ जाना  और दिल की धड़कन अचानक से तेज हो जाना आदि लक्षण होते है।

छाती के दर्द से बचाव /  सीने में दर्द के बचाव  – Chest Pain Precaution in Hindi

छाती में दर्द को हम कई तरीके से बचाव करके रोक सकते है । इसके अंदर हृदय सबंधी और गैर-हृदय सबंधी दर्द के प्रकार सम्मिलित रहते है।

जो लोग धुर्मपान करते है उनको हृदय सबंधी छाती में दर्द की तकलीफ हो सकती है| अगर वह लोग धूम्रपान करना छोड़ दे, तो वह सीने में होने वाले दर्द से बहुत हद तक बच सकते है। अगर आप स्वस्थ जीवन जीना चाहते है तो आपको फाइबर और कम वसा युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए और नियमित रूप से रोज व्यायाम करना चाहिए। अगर आपको ह्रदय सम्बंदि रोग होने का खतरा हे तो , आपको डॉक्टर से सलाह करके उनके द्वारा दी गई दवाई का सेवन करना चाहिए। एथेरोस्कलेरोसिस जो होता है वह हृदय से सबंधित छाती दर्द का एक बहुत ही आम कारण होता है। इसका उपचार करवा के सीने के दर्द को कम किया जा सकता है। इसके अलावा और भी ऐसे कारण होते है जिनके कारण आपको सीने में दर्द हो सकता है। आपको डिप्रेशन के कारण भी सीने में जलन और तेज दर्द होता है।

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी


मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 448

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top