Back Pain in hindi

Back Pain in hindi : कमर दर्द क्या है ? इसके कारण ,लक्षण और घरेलु उपाय

कमर दर्द क्या है ? : What is Back Pain in hindi

Table of Contents HIDE

आजकल कमर में दर्द होना बहुत आम बात हो गई है, आमतौर पर अगर देखा जाए तो कमर दर्द कुछ हफ्तों या महीनो में ठीक हो जाता है। कमर दर्द के कारण आपको पीठ में दर्द और अकड़न महसूस हो सकती है। लेकिन यह जो दर्द होता है वह ज्यादा गंभीर नहीं होता है इसे साधारण पेनकिलर दवाइयों को खाकर ठीक किया जा सकता है, वैसे तो देखा जाए तो कमर दर्द के बहुत सारे कारण हो सकते है। जिसमे से कुछ दर्द अचानक होने वाला दर्द गिरने या चोट लगने से होते है। बहुत सारे लोगो को अपने जीवन काल में कभी न कभी कमर में दर्द महसूस होता ही है। ज्यादातर लोगो को कमर में जो दर्द होता है वह 35 से 55 वर्ष की आयु में होता है।अगर आपकी कमर में बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है तो आपको बिस्तर पर सीधे लेट कर आराम करना चाहिए । अगर आप काम करते रहेंगे और कमर को हिलाते रहेंगे तो आपकी कमर में और दर्द होगा और आपकी कमर अधिक लचीली हो जाएगी।कमर दर्द को रोकने के लिए बहुत सारे उपचार है। अगर आपको रोक थमा से कोई फायदा महसूस नहीं होता है तो बहुत बार सरल घरेलु उपाए से भी बहुत जल्दी आपको आराम मिल सकता है। -Back Pain in hindi

कमर दर्द के लक्षण : Back Pain Symptoms in Hindi

यह कमर दर्द के कुछ सामान्य लक्षण हो सकते है।इन लक्षणों से आपको डरने की जरुरत नहीं होती है और इस तरह लक्षण में आप बाद में भी डॉक्टर को दिखा सकते है|पीठ दर्द का मुख्य लक्षण पीठ में कहीं भी दर्द हो सकता है, और कभी-कभी नितंबों और पैरों तक।पीठ की कुछ समस्याएं प्रभावित नसों के आधार पर शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द पैदा कर सकती हैं। दर्द अक्सर इलाज के बिना दूर हो जाता है, लेकिन अगर यह निम्न में से किसी के साथ होता है तो अपने डॉक्टर को देखना चाहिए:

  • पेट में हल्का सा दर्द होना।
  • सीधे होने में भी तकलीफ महसूस होना ।
  • कमर में सूजन आ जाना ।
  • घुटने के नीचे तक दर्द महसूस होना |
  • पेशाब करने में तकलीफ महसूस होना ।
  • अगर आप खेल रहे है तो उस समय चोट लगने के बाद पेट दर्द हो जाना । अगर आपको किसी खेल में भारी वजन उठाना हो तो इस प्रकार की तकलीफे होती है।
  • अगर आपको कमर में बहुत लम्बे समय से दर्द हो रहा है तो आप तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ।
  • वजन घटना
  • बुखार
  • पीठ पर सूजन होना 
  • लगातार पीठ दर्द, जहां लेटने या आराम करने से मदद नहीं मिलती है
  • पैरों के नीचे दर्द
  • हाल ही में पीठ में चोट, झटका या आघात
  • मूत्रीय अन्सयम
  • जननांगों के आसपास सुन्नता
  • गुदा के आसपास सुन्नता
  • नितंबों के आसपास सुन्नता

पीठ दर्द के लक्षण जो गंभीर समस्या का संकेत दे सकते हैं

अपने डॉक्टर को दिखाए यदि पीठ दर्द विकसित होने के दो सप्ताह के भीतर ठीक नहीं होता है। ऐसे समय होते हैं जब पीठ दर्द एक गंभीर चिकित्सा समस्या का लक्षण हो सकता है।

लक्षण जो अधिक गंभीर चिकित्सा समस्या का संकेत दे सकते हैं वे हैं:

  • आंत्र या मूत्राशय पर नियंत्रण का नुकसान
  • स्तब्ध हो जाना, झुनझुनी, या एक या दोनों पैरों में कमजोरी
  • आघात के बाद शुरू होना, जैसे कि गिरना या पीठ पर चोट लगना
  • तीव्र, लगातार दर्द जो रात में बढ़ जाता है
  • अस्पष्टीकृत वजन घटाने की उपस्थिति
  • बुखार की उपस्थिति
  • अपने डॉक्टर को बताएं कि क्या आपको इनमें से कोई भी लक्षण है।

इन लोगो को कमर में दर्द अनुभव होने पर आपातकाल डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए|

  • अगर आपका एक्सीडेंट हो गया तो उसके बाद पीठ में दर्द हो गया और चलने-फिरने में तकलीफ आना।
  • खड़े रहने में परेशानी होना 
  • 20 वर्ष से कम और 55 वर्ष से अधिक आयु वाले लोग में कमर दर्द होना 
  • कैंसर से पीड़ित मरीज में 
  • जिन रोगियों को कैंसर हो चूका है 

कमर दर्द के कारण  : Causes of Back Pain in hindi in Hindi

पीठ के निचले हिस्से में दर्द का सबसे आम कारण तनाव और पीठ के ढांचे में समस्याएं हैं।

जॉब या बहुत काम के कारण 

अगर आप ऑफिस में भारी चीज़ों को उठा रहे है या यदि आप कुछ ऐसा काम कर रहे है   जिससे आप अपनी हड्डी पर दवाब मेहसूस करते है इस कारण भी कमर में दर्द हो सकता है। लम्बे समय तक अगर आप कुर्सी पर बैठे रहते है तो भी कमर में दर्द हो सकता है। -Back Pain in hindi

वजनदार सामान उठाने पर  

अगर हम वजनदार सामन को उठाते है तो हमारी कमर में दर्द महसूस होता है जैसे – मन लीजिये अगर हम कुछ काम कर रहे है तो और एक दम से कोई वजनदार सामन को उड़ाते है तो उसका सीधा असर हमारी कमर की हड्डी के निचले हिस्से में पड़ता है। कुछ लोगो को कमर में दर्द अपना खुद का बैग उठाने से भी हो जाता है। यदि आपका बेग ज्यादा भारी होता है और यदि आप देर तक आपके बैग को पीछे लटका कर रखे हुए है तो आपकी कमर में दर्द होना स्व्भविक है। -Back Pain in hindi

एक्सरसाइज के कारण कमर दर्द 

अगर आप एक्सरसाइज करने के लिए जिम जाते है तो आपकी मांसपेशियों पर वजन ज्यादा आने से भी कमर में दर्द होने लग जाता है। अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ हो रहा है तो आपको थोड़े दिन तक आराम करना चाहिए या आपको कुछ ऐसी एक्सरसाइज करना चाहिए जिससे आपकी कमर पर उसका वजन न आए| -Back Pain in hindi

कमर की हड्डी पर चोट लग जाना 

रीड़ की जो हड्डी होती है वह छोटे-छोटे हड्डियों के टुकड़े से जुड़कर बानी हुई होती है| जिसे की हम डिस्क कहते है,और यदि इस डिस्क पर चोट लगती है तो खतरा बन जाता है।  -Back Pain in hindi

खिंचाव :  Strain

खिंचावग्रस्त मांसपेशियां अक्सर पीठ दर्द का कारण बनती हैं। खिंचाव आमतौर पर भारी वस्तुओं को गलत तरीके से उठाने और अचानक अजीब हरकतों के साथ होता है।

अत्यधिक गतिविधि से भी खिंचाव हो सकता है। एक उदाहरण के लिए दर्द का अनुभव होना जो कुछ घंटों के बहुत अधिक काम के कारण या खेल खेलने के बाद होता है। -Back Pain in hindi

संरचनात्मक समस्याएं : Structural problems

कशेरुकाओं (वेर्टेब्रे) इंटरलॉकिंग हड्डियां हैं जो एक दूसरे के ऊपर खड़ी होती हैं जो रीढ़ की हड्डी बनाती हैं। डिस्क की चोट पीठ दर्द का एक काफी सामान्य कारण है।

कभी-कभी ये डिस्क उभार, हर्नियेट या फट सकती हैं। ऐसा होने पर नसें संकुचित हो सकती हैं। ,हर्नियेटेड डिस्क बहुत दर्दनाक हो सकती है,तंत्रिका पर दबाव डालने वाली एक उभरी हुई डिस्क जो आपकी पीठ से आपके पैर तक जाती है, साइटिका या साइटिका तंत्रिका की जलन पैदा कर सकती है।

साइटिका , साइटिक तंत्र में होने वाला एक प्रकार के पीठ के दर्द को दर्शाता है  पीठ के निचले हिस्से से आपके कूल्हों और नितंबों के माध्यम से और प्रत्येक पैर के नीचे होता है। आमतौर पर साइटिका आपके शरीर के केवल एक तरफ को प्रभावित करता है। यह एक बड़ी तंत्रिका है जो प्रत्येक पैर के निचले हिस्से से नीचे की ओर चलती है। जब कोई चीज साइटिका तंत्रिका पर चोट या दबाव डालती है, तो यह पीठ के निचले हिस्से में दर्द पैदा कर सकती है जो कूल्हे, नितंब और पैर तक फैल जाती है।

गठिया : Arthritis

स्पाइनल ऑस्टियोआर्थराइटिस भी पीठ दर्द का एक संभावित कारण है। यह आपकी पीठ के निचले हिस्से में जोड़ों के कार्टिलेज में क्षति और गिरावट के कारण होता है। समय के साथ, इस स्थिति से स्पाइनल कॉलम का संकुचन हो सकता है, या स्पाइनल स्टेनोसिस हो सकता है।

ऑस्टियोपोरोसिस : Osteoporosis

हड्डियों के घनत्व में कमी और हड्डी का पतला होना, जिसे ऑस्टियोपोरोसिस कहा जाता है, आपके कशेरुकाओं में छोटे-छोटे फ्रैक्चर का कारण बन सकता है। ये फ्रैक्चर गंभीर दर्द का कारण बन सकते हैं और इन्हें संपीड़न फ्रैक्चर कहा जाता है।

कमर दर्द के अन्य कारण

पीठ दर्द के कई अन्य संभावित कारण हैं, लेकिन इनमें से अधिकतर दुर्लभ हैं। यदि आप नियमित रूप से पीठ दर्द का अनुभव करते हैं जो दूर नहीं होता है तो अपने डॉक्टर को देखना सुनिश्चित करें।

पीठ दर्द के अधिक सामान्य कारणों का पता लगाने के बाद, आपका डॉक्टर यह निर्धारित करने के लिए टेस्ट करेगा कि क्या आपको  एक दुर्लभ कारण है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

  • एक कशेरुकी शरीर का दूसरे पर विस्थापन, जिसे अपक्षयी स्पोंडिलोलिस्थीसिस कहा जाता है
  • निचले रीढ़ की हड्डी में तंत्रिका कार्य का नुकसान, जिसे कौडा इक्विना सिंड्रोम कहा जाता है (एक चिकित्सा आपात स्थिति)
  • रीढ़ की फफूंद या जीवाणु संक्रमण, जैसे स्टैफिलोकोकस, ई. कोलाई, या ट्यूबरक्लोसिस
  • रीढ़ में कैंसर या गैर-संक्रामक ट्यूमर
  • किडनी संक्रमण या किडनी की पथरी
कमर के दर्द के कारण होने वाली कुछ बड़ी परेशानियां 
बहुत बार कुछ बड़ी तकलीफो के होने के कारण भी हमें कमर में दर्द हो सकता है जैसे की –
  • डिस्क के उभार 
  • रीड़ की हड्डी का टेड़ा हो जाना 

कमर दर्द के घरेलु उपाए  : Home Treatment

कमर में जब भी आपको दर्द होता हे तो आप न उठ पाते है न बैठ पाते है न चल पाते है कमर दर्द हो जाने की वजह से हमारा पूरा शरीर दर्द का अहसास करने लगता है। ये समस्या आज कल बहुत ज्यादा बड़ गयी है हर उम्र के लोगो को चाहे वो वयस्क हो , बच्चो हो , पुरुषो हो और चाहे महिलाओं सभी को यह परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।आजकल के दिनचर्या इतनी बदल चुकी है की जीवन का कोई भरोसा नहीं।

कमर दर्द को हम निम्न घरेलु उपायों का इस्तेमाल करके भी ठीक कर सकते है

  • कमर का दर्द दूर करने के लिए आप गरम पानी से सिकाई कर सकते है।
  • कमर दर्द हो तो आप नारियल तेल या सरसों के तेल से भी घर पर ही मालिश कर सकते है । इससे भी आपका कमर दर्द दूर हो जाएगा।
  • कमर का दर्द बहुत जल्द कम करने के लिए आप अजवाइन को हल्का सा सेक ले और मुँह में डाल कर धीरे धीरे चबा सकते है।
  • नमक से भी कमर के दर्द को दूर किया जा सकता है। 2 तरीके का इस्तेमाल करके नमक से कमर के दर्द को दूर कर सकते है 
  • 2-3 चम्मच खड़ा नमक ले और इसे तवे पर गर्म कर ले । अब इस नमक को एक मोटे कपडे में बांध ले। अब इस मोटे कपडे को धीरे धीरे कमर पर रख के सिकाई करना चाहिए ।
  • आधी बाल्टी गुनगुना पानी ले अब इसमें 2-3 चम्मच नमक के डाले , फिर अब इसमें मोटी टॉवल डाल कर निचोड़ ले। फिर ऐसे कमर पर धीरे धीरे रख कर सिकाई करे।

आइस पैक चिकित्सा : Heat/ice therapy

आइस पैक असुविधा को दूर कर सकते हैं और पीठ दर्द के तीव्र चरणों में सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। नोट: बर्फ को सीधे अपनी त्वचा पर न लगाएं। अपनी त्वचा को नुकसान से बचाने के लिए इसे एक पतले तौलिये में लपेटें।

सूजन कम होने पर गर्म सेक भी दर्द से राहत दे सकता है। गर्म और ठन्डे पैक के बीच बारी-बारी से विचार करें।

अभ्यास (Exercises)

आसन में सुधार करने और पीठ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए व्यायाम – जिन्हें कोर मांसपेशियां कहा जाता है – एक उपचार विकल्प है जिस पर दृढ़ता से विचार किया जाना चाहिए।

इस उपचार में अक्सर शामिल होते हैं:

  • मुद्रा में सुधार
  • उचित सामान उठाने की तकनीक का उपयोग करना
  • कोर की मांसपेशियों को मजबूत बनाना
  • लचीलेपन में सुधार के लिए मांसपेशियों को खींचना

एक फिजिकल थेरेपिस्ट आपको घर पर इस प्रकार के व्यायाम करना सिखा सकता है।

आवश्यक तेल : Essential oils

शोध से पता चलता है कि लैवेंडर आवश्यक तेल या कैप्साइसिन से बने मलहम दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं।

नमक स्नान : Salt baths

एक गर्म स्नान मांसपेशियों में दर्द के लिए चमत्कार कर सकता है, आपका शरीर नमक के स्नान से खनिजों को अवशोषित कर सकता है, और वे मांसपेशियों में दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं।

पीठ दर्द को कम करने के लिए घरेलू उपचार अत्यधिक प्रभावी हो सकते हैं। उनका उपयोग कैसे करें और वे कैसे काम करते हैं, इसके बारे में और जानें। और अपने डॉक्टर से भी संपर्क करे। 

डिस्क्लेमर : इस साइट में शामिल जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य डॉक्टर द्वारा चिकित्सा उपचार का विकल्प नहीं है। हर व्यक्ति की विशिष्ट व्यक्तिगत आवश्यकताओं के कारण, पाठक को पाठक की स्थिति की जानकारी की उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

कुछ और मेडिसिन की जानकारिया आपकी दैनिक दिनचर्या के लिए जो आपकी लाइफ को आसान बनाएगी


मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 429

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top