Abdominal pain in pregnancy in hindi

Abdominal pain in pregnancy in hindi:प्रेग्नेंसी में पेट दर्द

प्रेग्नेंसी के समय कभी कभी गर्भवती महिलाओं को पेट के दर्द की समस्याओं(Abdominal pain in pregnancy in hindi) का सामना करना पड़ता है। महिलाओं को इस दर्द को आम ना समझे । 

Table of Contents HIDE

प्रेगनेंसी –  प्रेगनेंसी महिलाओं के जीवन का एक भावूक दौर है। प्रेगनेंसी के दौरान को अपनी सेहत का बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है।इस समय उनके शरीर मे बहुत से अलग अलग लक्षणों का सामना करना पड़ता हैं इसलिए उनको असामान्य लक्षणों को अनदेखा नहीं करना चाहिए। कभी कभी महिलाओ को पेट दर्द से गुजरना पड़ता हैं। महिलाएं इस दर्द को आम समझकर नज़रअंदाज़ कर देते हैं। लेकिन कभीकभी यह पेट का दर्द गभीर हो सकता है आज हम इस विषय की जानकारी देंगे। पेट दर्द के क्या क्या कारण हो सकते हैं। 

गर्भावस्था के 9 महीनो के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ?,क्या करे -क्या न करे

प्रेग्नेंसी में पेट दर्द होने की क्या क्या वजह हों सकती है(What can be the reason for Abdominal pain in pregnancy in hindi?)

 कब्ज या गैस कि वजह से भी महिलाओं के पेट मे दर्द हो सकता हैं कभी कभी खट्टी डकारें आना या उल्टी होना जैसी समस्याएं होती है। लेकिन कभी यह गम्भीर समस्या हो सकती है। आपका दर्द नॉर्मकल है यक नही ये जान ने के लिए आपको डॉक्टर को यह बताना होगा कि आप कैसा महसूस कर रही हो। आपको निम्न लक्षणो हो सकते हैं। इसलिए आपको ध्यान रखना चाहिए जैसे कि :-

  • पेशाब करते समय पेट मे दर्द होना या जलन होना।
  • पेशाब से खून आना
  • योनिस्राव
  • खून के  धब्बे आना ( रक्तस्त्राव)
  • कंपकंपी होना।
  • बुखार
  • उल्टी होना।
Diet chart pregnancy in hindi:गर्भावस्था आहार चार्ट सम्पूर्ण जानकारी

कभी कभी आपके पेट का दर्द किसी एक ऐसी समस्या का सकेंत हो सकता है। जो प्रेगनेंसी से जुड़ी नही हो जैसे कि:-

  • एपेंडिसाइटिस
  • अंडाशय में गाठ( ओवेरियन सीस्ट)
  • किडनी से जुड़ी समस्या
  • मूत्रमार्ग संक्रमण 
  • पित की थैली से जुड़ी समस्याएं
Mood swing in pregnancy in hindi:प्रेगनेंसी में मुड में बदलाव..

यह भी हो सकता है कि आपकी प्रेग्नेंसी की वजह से कोई समस्या हुई हों। गर्भाशय में फाइब्राइडस हो तो यह गर्भधारण से पहले परेशान नही करते मगर गर्भवती होने पर इनके कारण असहजता हो सकती हैं

गर्भाशय के बढ़ने की वजह से-(Due to the growth of the uterus Abdominal pain in pregnancy in hindi?)

गर्भाशय के बढ़ने कि वजह से भी पेट मैं दर्द होता हैं। इसके साथ साथ उल्टी आने की आकांशा भी बढ़ जाती है इसी वजह से गर्भवती महिलाओं को थोड़ी थोड़ी देर मैं कुछ न कुछ खाते  रहना चाहिए। ओर आराम करना चाहिए।

गर्भपात की वजह से -Because of abortion

प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षणों मे महिलाओं को अपना पूरा ध्यान रखना चाहिये। पहले महीने मे गर्भपात(अबोर्शन)  का अधिक खतरा होता है।ऐसे मे आपके पेट के निचले हिस्से मै दर्द होना, मरोड़े होना और रक्त-स्रोव होता हैं। ऐसे लक्ष्ण देखते ही आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

एक्टोपिक प्रेग्नेंसी की वजह से-Because of ectopic pregnancy

एक्टोपिक प्रेगनेंसी एकऐसी प्रेगनेंसी है जिसमे बच्चे का विकास बहुत तेजी से होता है जिसकी वजह से पेट मे दर्द होता है औऱ दर्द धीरे धीरे पूरे पेट मे  फैल जाता है। 

एक्टोपिक प्रेग्नेंसी काफी गंभीर हो सकती है, इसके लक्षणों पर ध्यान देकर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें :-
  • पेट के निचले हिस्से मैं दर्द, जो कि सिर्फ एक तरफ हो।
  • योनि से रक्तस्राव या खून के धब्बे आना,जो कि नॉर्मल पीरियड के गहरे रंग से हो।                    
इन  मुख्य लक्षणो के होने पर तुरंत नज़दीकी हस्पताल या आपतकालीन विभाग मैं जाए:-
  • आपके पेट मे बहुत ज्यादा दर्द होना।
  • आप बिमार महसूस करे ।
  • चक्कर आना, यया बेहोश हो जाना।
  • आपके चेहरे के रंग उड़ जाना औऱ कांतिहीन लगी हो।

मूत्रमार्ग  संक्रमण की वजह से -(Caused by urethra infection)

आगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान मूत्रमार्ग संक्रमण को इग्नोर करती हैं तो यह भी पे टदर्द का कारण बन सकती है। पेशाब मैं जलन और उल्टी जैसी समस्याओं को जन्म दिया जाता हैं। अगर इस इंफेक्शन पर ध्यान नहीं दिया गया तो यह बाद मैं किडनी इंफेक्शन का भी कारण बन सकता हैं।

ओवेरियन हाइपरस्टिमुलेशन सिंड्रोम-Ovarian hyperstimulation syndrome

यदि आपने गर्भधारण करने के लिए उपचार लिए थे, खासकर इन विट्रो फर्टीलाइजेशन (आईं.वी. एफ) , तो हो सकता है आपको पेट दर्द प्रजनन दवाओ द्वारा अंडाशय को उतेजीत करने की वजह से हो। आईवीएफ करवाने वाली एक तिहाई महिलाओ को ओवेरियन हाइपरस्टिमुलेशन की वजह से डिंब एकत्रित होताहैं। यदि आपको गर्भावस्था के हल्का सा रक्तस्त्राव हो या असामान्य योनिस्राव हो । तो डॉक्टर के पास जाए

समय से पहले प्रसव-(Premature delivery)

तीसरे तिमाही मैं पेट दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं, की आपका शरीर प्रसव के लिए पहले से तैयार हो रहा है।

समय से पहले प्रसव पीड़ा होने का मतलब यह नही होता कि बच्चे का जन्म अभी होने वाला हो । कई बार, जब तक आपके पानी की थैली नही फटती, तब तक यह एक गलत संकेत हो सकता हैं। 

 समय से पहले प्रसव 24 से 37 हफ्ते की प्रेगनेंसी के बीच कभी भी हो सकता हैं। आपके श्रोणि या निचले हिसे मे संकुचन की वजह से दर्द होता हैं गर्भाशय के मुँह को बंद रखने वाला म्यूकस प्लग भी बाहर आ सकता हैं।आपको ऐसा भी महसूस हो सकता ह की आपकी पानी की थैली फट गई है।

अगर आपको ऐसा महसूस हो रहा हैं तो आपको डाक्टर के पास जाना चाहिए।

प्री-एक्लेमप्सिया-Pre-eclampsia

अगर आपको आपकी पसली के नीचे तेज़ दर्द हो,तो तुरंत डॉक्टर से बात करे। यह प्री- एक्लेमप्सिया का लक्षण हो सकता हैं। यदि आपको ये है तो आपको साथ मैं अन्य लक्षण भी दिखाई दिए होंगे जैसे कि – सिर दर्द होना , तबीयत ज्यादा खराब लगना,ओर अचानक से सूजन बड़ जाना।

पित्ताशय की पथरी-Gallstones

अधिक अस्ट्रोजन के कारण प्रेगनेंसी के दौरान पित्ताशय की पथरी एक आम समस्या हैं। लक्षण जो पित्ताशय की पथरी का काऱण बन सकते हैं वो है- अधिक वजन,35 वर्ष से अधिक आयु औऱ  परिवार मैं पथरी का चिकित्सा इतिहास हैं।

अपेंडिसाइटिस-Appendicitis

प्रेगनेंसी के दौरान  यह संक्रमण से गर्भावस्था मे सर्जरी की स्तिथियाँ बन जाती है।यह शरीर में होने वाले परिवर्तनों के कारण होता है। डॉक्टर के अनुसार, पहली और दूसरी तिमाही में निदान करना बहुत आसान है। और इसके लक्षण है-उल्टी , निचले हिस्से मैं अधिक दर्द होना और बूख कि कमी होना।

गर्भावस्था के थ्री ट्राइमेस्टर के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

थर्ड  ट्राइमेस्टर  में पेट दर्द -Abdominal pain in third trimester in pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में आपको सबसे ज्यादा सावधान रहने की जरूरत पड़ती है।इस महीने पेट के निचले हिस्से में दर्द के साथ साथ दस्त की समस्या होने पर बच्चा समय से पहले हो सकता हैं।

गर्भवस्था के  दौरान बरतने वाली सावधानिया -Precautions during pregnancyin Abdominal pain in pregnancy in hindi?

  • पेट दर्द होने पर आराम करें।
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द होने पर गर्म पानी से सेक करे
  • पेट दर्द होने पर हॉट वाटर बोतल का इस्तेमाल करें
Protein powder during pregnancy in hindi:गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन पाउडर..
मेरा नाम रूचि सिंह चौहान है ‌‌‌मुझे लिखना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है । मैं लिखने के लिए बहुत पागल हूं ।और लिखती ही रहती हूं । क्योकि मुझे लिखने के अलावा कुछ भी अच्छा नहीं लगता है में बिना किसी बोरियत को महसूस करे लिखते रहती हूँ । मैं 10+ साल से लिखने की फिल्ड मे हूं ।‌‌‌आप मुझसे निम्न ई-मेल पर संपर्क कर सकते हैं। vedupchar01@gmail.com
Posts created 352

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top